अगस्ता वेस्टलैंड का बिचौलिया भारत की पकड़ में

0

अगस्ता वेस्टलैंड मामले में सीबीआई को बड़ी सफलता हाथ लगी है। अगस्ता वेस्टलैंड मामले में बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को सीबीआई भारत लाने में सफल हो गई। मिशेल को दुबई से भारत लाने के लिए भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के नेतृत्व में एक बेहद गोपनीय अभियान चलाया गया। इस अभियान का नाम ‘यूनिकॉर्न’ रखा गया था। डोभाल ने इंटरपोल और सीआईडी से मिलकर एक टीम गठित की और मिशेल को दुबई से भारत लाने की कवायद शुरू कर दी। सीबीआई के प्रभारी निदेशक नागेश्वर राव डोभाल के संपर्क में लगातार बने थे। सीबीआई के जॉइंट डायरेक्टर खुद भी इस अभियान का हिस्सा थे और क्रिश्चियन मिशेल को भारत लाने दुबई गए थे।

मिशेल को लेकर गल्फस्ट्रीम का विमान भारत रवाना हुआ और मंगलवार रात 10 बजकर 35 मिनट पर इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर पहुंचा, जहां लगभग 2 घंटे की कार्रवाई की गई। इस कागजी कार्रवाई के बाद मिशेल को सीबीआई मुख्यालय ले जाया गया। आज मिशेल को अदालत में ले जाया जाएगा और उससे सीबीआई पूछताछ करेगी। मिशेल को दुबई से भारत लाने और फिर सीबीआई मुख्यालय ले जाने तक सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। सूत्रों ने बताया कि हवाई अड्डे पर सुरक्षा को लेकर स्पेशल टीम भी तैनात की गई थी और सीबीआई मुख्यालय के बाहर भी कड़ी सुरक्षा की व्यवस्था की गई है।

गौरतलब है कि 3600 करोड़ रुपए की अगस्ता वेस्टलैंड डील में मिशेल पर घूस लेने और धोखाधड़ी का आरोप लगा है और उसे साल 2017 में दुबई में गिरफ्तार किया गया था। 2012 में मिशेल की संलिप्तता भारतीय अधिकारीयों को रिश्वत देने में भी पाई गई, जिसके बाद सीबीआई ने मिशेल को भारत लाने की कवायद शुरू की थी। मिशेल ने इस मामले में यूपीए सरकार के हाथ होने से साफ़ इनकार किया था वहीं कांग्रेस नेतृत्व के खिलाफ बात की थी।

इस डील में अधिकारियों ने अपने अधिकारों का गलत फायदा उठाकर वीवीआईपी हेलिकॉप्टर की ऊंचाई 6000 मीटर से घटाकर 4500 मीटर कर दी थी। ब्रिटेन की अगस्ता वेस्टलैंड इंटरनेशनल लिमिटेड को भारत सरकार द्वारा 2010 में 55.62 करोड़ यूरो का ठेका दिया गया था।

पुलिस ने सुलझाई गुत्थी, पुजारी की हुई गिरफ्तारी

मिनरल वाटर कंपनियों को बंद कर देना चाहिए : सीजेआई

बुलंदशहर : इंस्पेक्टर के बेटे ने कहा, पिता को…

Share.