आखिर प्रदेश में कौन जीत रहा है…?, पढ़ तो लीजिए

0

प्रदेश में इस बार किस दल की सरकार बनेगी और किसके हाथ में आने वाले पांच सालों तक सिंहासन रहेगा। इस बारे में जहां जुबानी चर्चाएं लगातार जारी हैं वहीं देश के सबसे पुराने बाज़ार यानी सट्टा बाज़ार के रुझान भी सामने आने लगे हैं। मतदान के बाद मध्यप्रदेश में बनने वाली सरकार को लेकर ’सट्टा बाजार’ ने अपना आकलन करना  शुरू कर दिया है। सट्टा बाजार के आकलन के हिसाब से प्रदेश में इस बार कांग्रेस की सरकार बन रही है यानी इस बार प्रदेश में बदलाव होगा।

रही बात सीटों की तो कांग्रेस को 116 सीटें मिल रहीं हैं, जो बहुमत के लिए पर्याप्त हैं। बाज़ार के विश्लेषण के हिसाब से भाजपा, जो इस चुनाव में 200 पार का दावा कर रही थी, वह आधे पर ही सिमट रही है। भाजपा का आंकड़ा सैकड़ा भी पार नहीं कर पा रहा है।

इंदौर सट्टा कारोबार का बड़ा गढ़ है। सटोरियों ने प्रदेश में कांग्रेस की सरकार की अभी से घोषणा कर दी है। सट्टा बाज़ार के हिसाब से कांग्रेस को 115 से 116 सीटें मिल रहीं हैं। वहीं भाजपा को 99 से 100 सीटें मिल सकती हैं। सट्टा खाने वाले बड़े कारोबारी भाजपा को सौ से अधिक सीट देने को तैयार नहीं हैं, जबकि मतदान के पहले 105 सीटें भाजपा को मिल रही थीं।

इंदौर में 5-4 का गणित

सट्टा बाजार के हिसाब से इंदौर में 5 सीट भाजपा को आ रहीं है, वहीं कांग्रेस को 4 सीटें मिल रहीं हैं। सटोरियों के रेट के मुताबिक शहर की सारी सीटें भाजपा को तो ग्रामीण इलाकों की चारों सीटें कांग्रेस को जा रही हैं। 1 में सुदर्शन गुप्ता, 2 में रमेश मेंदोला, 3 में आकाश विजयवर्गीय, 4 में मालिनी गौड़ और 5 में महेंद्र हार्डिया की जीत बताई जा रही है, वहीं राऊ से जीतू पटवारी, सांवेर से तुलसी सिलावट, महू से अंतरसिंह दरबार व देपालपुर से विशाल पटेल को बता रहे हैं।

Share.