आजम खान ने मायावती के मुस्लिमों पर दिए बयान के बाद कहा ..

0

लोकसभा चुनाव (loksabha election) के तुरंत बाद ही बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती के गठबंधन तोड़ने के ऐलान पर सपा नेता नाराज है और अब इनमे आजम खान (Azam Khan On SP BSP Alliance Breaking) का नाम भी जुड़ गया है| आजम ने कहा कि अगर वो अकेले चुनाव लड़ने की बात कह रही हैं, तो हम क्या कर सकते हैं| जब समझौता हुआ तब दोनों की राय से हुआ था, मशवरे से हुआ था|

नफा और नुकसान सोच के हुआ था| वैसे भी सियासत में कभी नुकसान तो कभी नफा होता रहता है| मायावती के मुस्लिमों को टिकट देने वाले बयान पर सपा नेता ने कहा कि मायावती ने ये बहुत हल्की बात कह दी है| मेरा ख्याल है कि मायावती को इतनी हल्की बात नहीं कहनी चाहिए थी| डिंपल यादव के सार्वजनिक मंच पर मायावती के पैर छूने पर आजम खान ने कहा कि ये तो संस्कारों की बात है|

चमकी बुखार पर जवाब दें बिहार सरकार : SC

मायावती (mayawati)  ने अपने ताजा बयान में गठबंधन टूटने (Azam Khan On SP BSP Alliance Breaking) का कारण समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव को बताया था | उन्होंने ऐलान किया कि बसपा अब आगे के सभी छोटे-बड़े चुनाव में किसी भी पार्टी से गठबंधन नहीं करते हुए अकेले चुनाव लड़ेगी| मायावती ने सोमवार को ट्वीट कर कहा, ‘वैसे भी जगजाहिर है कि सपा से सभी पुराने गिले-शिकवों को भुलाने के साथ-साथ सन 2012-17 में सपा सरकार के बीएसपी और दलित विरोधी फैसलों, प्रमोशन में आरक्षण विरुद्ध कार्यों और बिगड़ी कानून-व्यवस्था आदि को दरकिनार करके देश व जनहित में सपा के साथ गठबंधन धर्म को पूरी तरह से निभाया|

परन्तु लोकसभा आमचुनाव के बाद सपा का व्यवहार बीएसपी को यह सोचने पर मजबूर करता है कि क्या ऐसा करके बीजेपी को आगे हरा पाना संभव होगा? जो संभव नहीं है| इसलिए पार्टी व मूवमेन्ट के हित में अब बीएसपी आगे होने वाले सभी छोटे-बड़े चुनाव अकेले अपने बूते पर ही लड़ेगी|’

सीईटी में गड़बड़ी का मामला कुलपति पर पड़ी भारी

गौरतलब है कि बीएसपी (Azam Khan On SP BSP Alliance Breaking) सुप्रीमो ने कहा था कि, ‘अखिलेश ने मुझे ज्यादा मुसलमानों को टिकट देने से मना किया था, उन्होंने मुझसे कहा था कि इससे ध्रुवीकरण होगा और बीजेपी को फायदा हो जाएगा| लोकसभा चुनाव में हार के बाद अखिलेश ने मुझे फोन तक नहीं किया|’

पश्चिम बंगाल में मिले 50 खतरनाक बम…

Share.