महाकाल मंदिर में 6000 लीटर का फ़िल्टर

1

उज्जैन के महाकाल मंदिर में श्रद्धालुओं के लिए जल्द ही 6000 लीटर का एक ‘आरओ वाटर फिल्टर’ लगाया जाएगा। इसी के साथ अब मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं को शुद्ध पानी पीने के लिए मिल पाएगा। महाकाल मंदिर में महाकाल के दर्शन के लिए रोजाना 20 हज़ार से ज्यादा श्रद्धालु पहुंचते हैं| ऐसे में पानी की अव्यवस्था के कारण इन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि जो पानी व्यर्थ नालियों द्वारा बहा दिया जाता है, वह महाकाल मंदिर में लगे पेड़-पौधों और औषधि बनाने के लिए काम आ सके। इससे पहले शिवलिंग क्षरण रोकने के लिए भी महाकाल मंदिर प्रबंधन द्वारा काफी उपाय किए जा चुके हैं। मंदिर प्रबंधन ने शिवलिंग क्षरण रोकने के लिए पहले ही शिवलिंग पर चढ़ाए जाने वाले सामान्य पानी पर रोक लगाते हुए सिर्फ आरओ वाटर की व्यवस्था की थी। वहीं कावड़ियों द्वारा लाए जाने वाले पानी को भी फिल्टर कर अभिषेक का निर्णय लिया था।

वहीं कई सारा पानी व्यर्थ होने से बचाने के लिए प्रबंधन ने उस पानी को पेड़-पौधे सींचने के काम में लाने का निर्णय लिया है। साथ ही शिवलिंग पर चढ़ने वाला जल और RO वाटर का वेस्टेज पानी भी काम में लिया जाएगा।

Share.