शिया दाऊदी बोहरा समाज के 365 जोड़ों का हुआ निकाह

0

इंदौर के दाऊदी बोहरा समाज में रविवार को ‘रस्मे सैफी’ के तहत सामूहिक निकाह का आयोजन  किया गया। सैफीनगर में हुए इस सामूहिक विवाह में धूमधाम के साथ सभी रस्में संपन्न हुई। इसमें इंदौर सहित देश-विदेश से आए 365 जोड़ों का निकाह हुआ। इसमें एक जोड़े का निकाह सैयदना डॉ. आलीकदर मुफद्दल सैफुददीन मौला ने पढ़ा। इस जोड़े का चयन लकी ड्रॉ के जरिये किया गया था।

आयोजन की जानकारी देते हुए अली असगर भोपालवाला ने बताया कि बाकी 364 जोड़ों का निकाह सैय्यदी मुकासिर साहेब, शहजादा काईद जौहर भाई साहब ईज्जुद्दीन, शहजादा शब्बीर भाईसाहब नुरुद्दीन, शहजादा मालेकु अस्तर भाई साहब शुजाउद्दीन, शहजादा ईदरीस भाईसाहब बदरुद्दीन, शहजादा जाफरुस सादिक भाईसाहब इमादुद्दीन, शहजादा ताहा भाईसाहब नजमुद्दीन एवं शहजादा हुसैन भाईसाहब बुरहानुददीन ने पढ़ाए।

इस मौके पर सैयदना साहब ने सभी नवयुगल जोड़ों की सलामती व सफल वैवाहिक जीवन की दुआ फरमाई। निकाह के पूर्व सभी 365 दूल्हों का शबगज (जुलूस) बैंड-बाजे के साथ सैफीनगर क्षेत्र में धूमधाम से निकला।

सैयदना साहब ने अपने निवास से जुलुस पर नज़र मुबारक फरमाई। जुलूस में जगह-जगह घोड़ी पर सवार दूल्हों का मुंह मीठा  कराया गया। इस सामूहिक निकाह को लेकर परिवारों में विशेष खुशी का माहौल नज़र आया। दूल्हा- दुल्हन व उनके परिवार को रिश्तेदारों, दोस्तों व समाजवासियों ने मुबारकबाद दी। इसके बाद सैयदना आलीक़दर मुफद्दल सैफ़ुद्दीन मौला मग़रिब की नमाज़ के लिए बिजलपुर ‘मसकीन ऐ सैफिया’ कॉलोनी में पधारे। वहां रहवासियों के बीच घरों में उन्होंने कदम फरमाए। सैयदना साहब के आगमन से सभी समाजवासी हर्षित नज़र आए।

मोहर्रम के अशरा मुबारक की पहली वाअज़ में बोले सैयदना साहब

सैयदना साहब को देख नम हो उठी बेताब निगाहें

इंदौर में बोहरा समाज ने सुनी 51वें धर्मगुरु की आवाज़

Share.