website counter widget

क्यों है दुनिया में 13 नंबर का खौफ

0

दुनिया में हर व्यक्ति शुभ और अशुभ चीज़ों को मनाता है। किसी के लिए कोई रंग अशुभ होता है तो किसी के लिए कोई अन्य चीज़। लेकिन दुनिया में एक ऐसा अंक है जिसे हर कोई अशुभ ही समझता है। जिस अंक को पूरी दुनिया में अशुभ माना जाता है वह अंक है 13 नंबर। हालांकि 13 नंबर को अशुभ क्यों माना जाता है इसका कारण आज तक किसी को नहीं मालूम। लेकिन फिर भी इसे पूरी दुनिया में सबसे मनहूस नंबर माना जाता है। यही वजह है कि दुनियाभर में लोग इस नंबर से बचते नज़र आते हैं। हालांकि इसे अशुभ मानने के पीछे लोगों ने कई प्रकार के तर्क दिए हैं। चलिए जानते हैं उनकी तर्कों के बारे में।

5 Mysteries of Indian Temples : प्राचीन धार्मिक स्थलों के 5 अनसुने रहस्यमयी किस्से

विशेषतौर पर पश्चिमी देशों में 13 नंबर से लोग परहेज करते हैं और इसे बेहद ही अशुभ मानते हैं। इसके पीछे लोगों का मानना है कि एक बार ईसा मसीह के साथ एक शख्स ने धोखा किया था। जिस शख्स ने उनके साथ विश्वासघात किया था वह उनके साथ ही रात्रिभोज में शामिल था और वह 13 नंबर की कुर्सी पर बैठा था। इसी वजह से लोग उस दिन से इन नंबर को दुर्भाग्यपूर्ण मानाने लगे।

वहीं इस नंबर को अशुभ मानने के पीछे मनोविज्ञान का कहना है कि इसे ट्रिस्काइडेकाफोबिया या थर्टीन डिजिट फोबिया कहते हैं। इसमें लोगों पर डर इस कदर हावी हो जाता है कि लोग इसे बोलने तक से कतराने लगते हैं।

‘मेरा देहांत हो गया है’ लिख कर मांगी छुट्टी, शिक्षक ने दी अनुमति

अगर आप कभी फॉरेन ट्रिप पर जाएंगे तो आप पाएंगे कि अधिकतर होटलों में 13 नंबर का कोई भी रूम या फिर 13 वीं मंजिल ही नहीं है। इससे आप इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं कि होटल मालिक इन नंबर को बेहद अशुभ मानता है। कई रेस्टोरेंट्स और बार में भी आपको 13 नंबर की टेबिल नहीं दिखाई देगी।

विदेशों के अलावा भारत के चंडीगढ़ में भी आपको इसका उदाहरण देखने को मिल जाएगा। कहा जाता है कि चंडीगढ़ जवाहर लाल नेहरू के सपनों का शहर था। लेकिन यहां आपको सेक्टर 13 कहीं नहीं मिलेगा। क्योंकि इस सुनियोजित शहर का नक्शा बनाने वाले आर्किटेक्ट ने 13 नंबर का सेक्टर बनाया ही नहीं। दरअसल उस आर्किटेक्ट को विदेश से बुलवाया गया था और वह 13 नंबर को अशुभ मानता था।

Rashmi Rocket Motion Poster : ‘रश्मि रॉकेट’ में तापसी पन्नू, मोशन पोस्टर जारी

Prabhat Jain

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.