देश की पहली बिना इंजन की ‘ट्रेन 18’ ने रचा कीर्तिमान

0

भारत की सबसे तेज़ गति वाली पहली लोकोमोटिव (इंजन) रहित ट्रेन का रविवार को परीक्षण किया गया। ‘ट्रेन 18’ के नाम से शुरू होने वाली इस ट्रेन का परीक्षण 180 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से किया गया। जानकारी के अनुसार, ‘ट्रेन 18’ का संचालन शुरू हो जाने पर यह भारत में सबसे तेज़ गति की ट्रेन होगी। 100 करोड़ की लागत से इस ट्रेन की आधुनिक डिजाइन तैयार की गई है।

इस ट्रेन का निर्माण करने वाली कम्पनी ‘इंटीग्रल कोच फैक्टरी’(आईसीएफ) के महाप्रबंधक एस.मणि ने जानकारी दी कि ‘ट्रेन 18’ ने कोटा-सवाई माधेापुर खंड में 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार की सीमा पार की। प्रमुख परीक्षण अब पूरे हो चुके हैं, बस कुछ अन्य बचे हैं। रिपोर्ट के आधार पर, यदि ज़रूरत पड़ी तो चीजों को और बेहतर किया जाएगा। फिलहाल कोई बड़ी तकनीकी समस्या सामने नहीं आई है।’ मणि ने आगे कहा कि हमें उम्मीद है कि ‘ट्रेन 18’ जनवरी 2019 से अपना वाणिज्यिक संचालन शुरू करेगी। आमतौर पर परीक्षण में तीन महीने का समय लगता है, लेकिन अब यह उम्मीद से तेज़ गति से हो रहा है।

वहीं अधिकारियों का कहना है कि यदि सब कुछ ठीक तरह से हुआ और इसका परीक्षण जल्द पूर्ण हो जाने पर ‘ट्रेन 18’ वर्तमान शताब्दी एक्सप्रेस की जगह दौड़ेगी। अधिकारियों ने यह भी कहा कि  भारतीय रेलवे प्रणाली, सिग्नल और पटरियों का साथ मिल जाए तो यह ट्रेन 200 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से भी सफर तय करने में सक्षम है। ‘ट्रेन 18’ को अक्टूबर माह की 29 तारीख को रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने हरी झंडी दिखाई थी। इस हाईटेक बिना इंजन की ट्रेन में 16 डिब्बे रहेंगे और इसकी यात्री क्षमता वर्तमान शताब्दी एक्सप्रेस के बराबर होगी। इंटीग्रल कोच फैक्टरी इस वित्तीय वर्ष में एक तथा अगले वित्तीय वर्ष में 4 ऐसी ‘ट्रेन 18’ पेश करेगी।

जल्द दिल्ली-भोपाल में दौड़गी इंजनलेस ट्रेन

VIDEO : अब भारत में बिना इंजन वाली हाईस्‍पीड ट्रेन

जल्द दौड़गी दिल्ली-भोपाल सेमी-हाईस्पीड ट्रेन

Share.