आखिर क्यों ताजमहल में आ रहे हैं इतने अजगर

0

ताजमहल (Taj Mahal) की खूबसूरती के तो सभी कायल हैं। ताजमहल की ख़ूबसूरती को निहारने के लिए पूरी दुनिया से सैलांनी यहां पहुंचते हैं। लेकिन अब सैलानियों से ज्यादा ताजमहल की खूबसूरती को निहारने के लिए अजगर (Python) आ रहे हैं। जी हां आपने बिलकुल सही पढ़ा। ताजमहल (Taj Mahal Unknown Facts) के आस-पास इन दिनों अजगरों की तादात काफी बढ़ गई है। अब सभी के मन में एक सवाल जरूर उठ रहा है कि आखिर अचानक ताजमहल के आस-पास इतने कहां से आ रहे हैं। क्योंकि ताजमहल के आस-पास सैलानियों से ज्यादा अजगरों की तादात बढ़ती जा रही है।

दुनिया के ऐसे देश जहां कभी नहीं होती रात

ताजमहल (Taj Mahal) के आस-पास जहरीले अजगरों (Python) की तादात बढ़ने के पीछे की मुख्य वजह है इसके आस-पास की हरियाली। जी हां ताजमहल के पास की हरियाली अजगरों को अपनी तरफ आकर्षित करती है। अजगर हरियाली की खोज में ताजमहल के आस-पास पहुंच रहे हैं और अपना ठिकाना बना रहे हैं। इसी हरियाली की वजह से अजगर अब इंसानी आबादी के आस-पास बढ़ने लगे हैं। इस मामले में वाइल्ड लाइफ इंचार्ज रहे उमेंद्र शर्मा का कहना है कि ताजमहल (Taj Mahal Unknown Facts) के पास बढ़ती अजगरों की संख्या वाकई में बेहद चौकाने वाली बात है। पिछले कुछ वक़्त में ताजमहल के इर्द-गिर्द काफी ज्यादा संख्या में अजगर नज़र आने लगे हैं यह चिंता का विषय है। वहीं उन्होंने कहा कि इसकी सबसे बढ़ी वजह है ताजमहल के आस-पास हरियाली का बढ़ना।

यहां मिल रहे 10 रुपए के नोट के बदले 1355 रुपए

उमेंद्र शर्मा ने कहा कि ताजमहल (Taj Mahal) की जरूरतों को देखते हुए वन विभाग उसके इर्द-गिर्द फॉरेस्ट एरिया बढ़ा रहा है। वन विभाग की कोशिशों की वजह से ही ताज के आस-पास का फॉरेस्ट एरिया काफी बढ़ा दिया गया है। इस फॉरेस्ट एरिया के बढ़ने से यहां अजगरों का प्रिय भोजन खरगोश और चूहे भी काफी बढ़ गए हैं। इन्ही की वजह से यहां अजगरों की संख्या काफी बढ़ती जा रही है। इसके अलावा दूसरा कारण यह है कि ताजमहल के पीछे वाले इलाके में स्थित गांव में खेती और रिहाइशी बढ़ने की वजह से अजगरों को यह इलाका छोड़ना पड़ रहा है। इसके अलावा ताज के आस-पास के क्षेत्रों में तेजी से कंस्ट्रक्शन का काम भी बढ़ा है। इन सभी की वजह से यहां के अजगर अपना पुराना ठिकाना छोड़ नए ठिकानों की तलाश में ताजमहल के आस-पास पहुंच रहे हैं।

बिल्लियों ने डाली 13 करोड़ की डकैती

Prabhat Jain

Share.