इस रहस्यमयी गड्ढे को भरने में सभी हुए फेल

0

यह दुनिया बेहद विभिन्न तरीकों के रहस्य से भरी पड़ी है। आज भी दुनिया में कई ऐसे रहस्य मौजूद हैं जिन पर से आज तक पर्दा नहीं उठ पाया है। हालांकि कई राज खुल चुके हैं जिन्होंने पूरी दुनिया को चौंका कर रख दिया है। कई राज ऐसे हैं जिसको जानने के बाद हर कोई आश्चर्य में पड़ जाता है। इसे जानने के बाद चौंकना भी लाजमी है क्योंकि ये राज होते ही बेहद हैरतंगेज हैं। आज हम आपको ऐसी ही एक बेहद रहस्यमयी जगह से रूबरू करवाने जा रहे हैं। आज जो हम आपको बताने जा रहे हैं उसे जानकार आपके भी पैरों तले जमीन खिसक जाएगी और आपका मुंह खुला का खुला रह जाएगा। तो चलिए जानते हैं उस रहस्यमयी जगह के बारे में।

जींस पहनकर गाड़ी चलाने वाले इस खबर को जरूर पढ़ें

आज जिस रहस्यमयी जगह की हम बात करने जा रहे हैं वह एक गड्ढा है। अब आप सोच रहे होंगे कि भला गड्ढे में ऐसा क्या है जिसे जानकार हैरानी हो या फिर सभी आश्चर्य में पड़ जाएं? तो हम बता दें कि ये गड्ढा ऐसा है जिसे आज तक कोई भी नहीं बार पाया है। जी हां यह गड्ढा बेहद ही विचित्र और रहस्यमयी है जिसे जितना भी भरने की कोशिश कर लो पर ये कभी नहीं भरता। आज से कुछ वर्ष पूर्व सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी अपलोड किया गया था जिसमें इस गड्ढे को बुल्डोजर की सहायता से मिटटी डालकर भरने का प्रयास किया जा रहा था। उस वीडियो में दिखाया गया था कि जैसे ही गड्ढे में मिटटी डाली जाती थी तो वह खुद ब खुद बाहर आ जाती थी।

जानिये ऐसा क्या हुआ की एक नन बन गई पॉर्नस्टार

गड्ढे में मिटटी डालने पर तकरीबन 100 फ़ीट का रेत का फव्वारा निकलता है। यह फव्वारा गड्ढे में डाली गई हर चीज़ को बाहर फेंक देता है। यह गड्ढा जहां है उस जगह को अल जॉफ कहा जाता है और यह सऊदी अरब में स्थित है, यह पूरा रेगिस्तानी इलाका है। यह रेगिस्तानी इलाका तकरीबन एक लाख 212 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। कई वैज्ञानिक मानते हैं कि गड्ढे में ब्लोहोल्स बने हुए हैं जो उसमे डाले गए किसी भी सामन को तेजी से बाहर फेंक देते हैं। दरअसल इस रेगिस्तानी इलाके में अक्सर ही छोटे-छोटे गड्ढों में ब्लोहोल्स बन जाते हैं। इन गड्ढों को भरना असंभव होता है। वहीं वैज्ञानिक कहते हैं कि यह ब्लोहोल्स मौसम, हवा के तापमान और दबाव पर निर्भर होते हैं। यही वजह है कि गड्ढे में कोई भी चीज़ डालने पर वह बाहर आ जाती है।

इस जहरीले इंसान पर कोबरा का ज़हर भी बेअसर

Prabhat jain

Share.