website counter widget

इंटरनेट पर बीमारी का इलाज नहीं, मिलेगी मौत

0

आज के दौर में इंटरनेट पर हर चीज़ आसानी से उपलब्ध है। आपको किसी भी बारे में कोई भी जानकारी चाहिए तो बस इंटरनेट पर सर्च कर लीजिए। वहीं आज दुनिया में कई तरह की बीमारियां फ़ैल रही हैं जिसके बारे में लोग अपने डॉक्टर्स से कंसल्ट करने के बदले उनका इलाज भी इंटरनेट पर खोजते हैं। कई बीमारियां ऐसी होती हैं जिसे इंसान चाह कर भी डॉक्टर को बताने से कतराता है। ऐसे में वह इंटरनेट का सहारा लेता है। लेकिन हाल ही में वैज्ञानिकों ने इन तरीकों को बेहद ही खतरनाक बताया है।

Video : पेट्रोल की जगह कोका-कोला से चल पड़ी बाइक

वैज्ञानिकों का कहना है कि जब कोई व्यक्ति इंटरनेट पर किसी बीमारी का इलाज देखता है तो उस पर पूर्ण रूप से विश्वास कर लेता है। जब मरीज को इस पर पूर्ण विश्वास हो जाता है तो फिर डॉक्टर्स के पास जाने के बाद भी वह इंटरनेट पर बताए गए उपायों पर ही यक़ीन करता है। डॉक्टर की सलाह भी उसे फिर बेबुनियाद लगती है। इस बारे में मैक्स अस्पताल में मेडिकल एडवाइज़र और डायरेक्टर (इंटरनल मेडिसिन) डॉ. राजीव डैंग का कहना है कि, “हर दूसरा मरीज नेट और गूगल से कुछ न कुछ पढ़कर आता है, उसके मुताबिक सोच बनाता है और फिर बेबुनियाद सवाल करता है।”

WOW : इस टायर में न होगा पंचर न भरनी पड़ेगी हवा

इतना ही नहीं कई मरीज़ तो ऐसे भी होते हैं जो अपनी रिसर्च के आधार पर जिद करके कई टेस्ट करवाते हैं। इसके अलावा इंटरनेट से पढ़कर छोटी-मोटी दवाओं का सेवन भी करते हैं। लेकिन कई बार सही जानकारी के आभाव में दवाओं का रिएक्शन हो जाता है। डॉक्टर राजीव डैंग का कहना है कि आजकल इंटरनेट पर हर चीज़ उपलब्ध है और हम किसी को उसकी बीमारी के बारे में जानने या पढ़ने से नहीं रोक रहे। मरीज़ बेशक इंटरनेट से उसकी बीमारी के बारे में जानकारी हासिल करें। लेकिन जो जानकारी वे पढ़ रहे हैं उसका अपनी समझ के अनुसार मतलब न निकालें। ऐसा करने से उन्हें और उनके डॉक्टर दोनों को परेशानी उठानी पड़ती है। डैंग का कहना है कि ऐसे मरीजों के कभी न ख़त्म होने वाले कई बेतुके सवाल होते हैं।

भूकंप में छुपा है सोने का राज़

डॉ. डैंग ने कहा कि कोई डॉक्टर सालों पढ़ाई करता है तभी बीमारी का सही इलाज करता है। आप सिर्फ कुछ घंटे इंटरनेट पर एक बीमारी के बारे में रिसर्च कर सबकुछ कैसे समझ सकते हैं? उनका कहना है कि यदि कोई गंभीर बीमारी से पीड़ित है तो उसे इसका बेहद गंभीर परिणाम भुगतना पड़ सकता है। ऐसे में उसे अपनी जान का जोखिम कतई नहीं उठाना चाहिए। क्योंकि कई बार इंटरनेट पर जो दवाएं बताई जाती हैं वे उस बीमारी की नहीं होती। ऐसे में परिणाम बेहद बुरे भी हो सकते हैं।

Summary
Review Date
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.