website counter widget

हर किसी को है आत्मरक्षा का अधिकार, लेकिन सिर्फ इन परिस्तिथि में

0

भारतीय संविधान में हर किसी को अपनी सुरक्षा और अपनी संपत्ति की रक्षा करने का पूरा अधिकार दिया गया है। भारतीय कानून हर व्यक्ति को आत्मसुरक्षा का अधिकार देता है। यदि कोई ऐसी परिस्थिति बनती है जहां कोई आपको या फिर आपकी सम्पति को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करता है तो आप अपनी आत्मरक्षा व अपनी संपत्ति की सुरक्षा (Right To Self Defence ) के लिए हर जरूरी कदम उठा सकते हैं। यह आपका मौलिक अधिकार है और यह संविधान में दर्ज है।

इस तरह बनवाएं गन का लाइसेंस, यहां करें अप्लाई

भारतीय संविधान में व्यक्ति के मौलिक अधिकारों में यह भी शामिल है कि कोई भी व्यक्ति अपने परिजन की सुरक्षा के लिए भी हर जरूरी कदम उठा सकता है। इस अधिकार को राइट टू सेल्फ डिफेंस (Right To Self Defence ) मतलब आत्मरक्षा का अधिकार कहा जाता है। भारतीय दंड सहिंता (IPC) की धारा 96 से लेकर 106 इसी मौलिक अधिकार को दर्शाती है। इस अधिकार के तहत व्यक्ति अपनी, अपने परिजन जैसे पत्नी, बच्चों, माता-पिता, अपने करीबियों और अपनी संपत्ति की सुरक्षा कर सकता है। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील विनय कुमार गर्ग ने जानकारी दी कि  यदि आत्मरक्षा के दौरान किसी की जान जाती है तब आत्मरक्षा करने वाले व्यक्ति को इस अधिकार के तहत छूट दी जाती है।

Patal Bhuvaneshwar : यह गुफा बताती है कब होगा कलयुग का अंत, पढ़ें इसके बारे में

हालांकि उन्होंने यह भी बताया कि इस अधिकार इस्तेमाल केवल फिजिकल हमले के खिलाफ ही किया जा सकता है। अगर कोई गाली-गलौज या फिर किसी भी अभद्र भाषा का इस्तेमाल करता है उसके खिलाफ इस अधिकार का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। इस अधिकार (Right To Self Defence ) में व्यक्ति की जान को खतरा होने पर ही आत्मरक्षा की जा सकती है। क्योंकि हर इंसान को अपनी सुरक्षा करनी जरूरी भी है और ये उसका हक़ भी है। हालांकि इस अधिकार की भी कुछ सीमाएं निर्धारित की गई हैं। जैसे कोई व्यक्ति आपको नुकसान पहुंचाने की कोशिश करता है, तो अपनी आत्मरक्षा में उसे उतना ही नुकसान पहुंचा सकते हैं जितना वह आपको पहुंचना चाहता था।

हौसला हो तो आप असंभव को भी संभव बना सकते हैं

इसका मतलब है कि आप ईंट का जवाब पत्थर से नहीं दे सकते। अगर सामने वाला डंडे का इस्तेमाल कर रहा है तो आपको अपनी आत्मरक्षा में डंडा ही चलना होगा गोली नहीं। लेकिन यदि सामने वाला व्यक्ति आप पर गोली चला रहा है तो इसके डिफेन्स में आप भी उस पर गोली दाग सकते हैं इसे आपका अधिकार माना जाएगा। लेकिन यह केवल आपातकालीन स्थिति में ही आपका अधिकार माना जाएगा।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.