डीसीपी पिता ने IPS बेटी को किया सलाम!

0

बच्चों का मन निर्मल और कच्ची मिटटी के सम्मान होता है। बाल अवस्था में माता-पिता और गुरु द्वारा उन्हें जैसा ढाला जाता है, वे वैसे ही बन जाते हैं। बच्चे हमेशा अपने माता-पिता के दिखाए मार्ग पर चलते हैं। यहां तक की माता पिता को अपना भगवान भी मानते हैं। अक्सर देखने में आया है कि बच्चों की पहचान उनके माता से ही होती है, लेकिन तेलंगाना की सिंधू शर्मा अपने माता-पिता के लिए पहचान बन गई।

अपने पिता डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस एआर उमामहेश्वरा शर्मा के नक़्शे कदम पर बढ़ते हुए सिंधू ने कड़ी मेहनत की और आज सिंधू शर्मा सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस यानी एसपी हैं। पिता डीसीपी और बेटी आईपीएस है। एक पिता के लिए इससे ज़्यादा गर्व की बात और क्या होगी कि उनकी बेटी उन्हीं के डिपार्टमेंट में उनसे बड़े ओहदे पर है। हैदराबाद के बाहरी कोंगरा इलाके में आयोजित तेलंगाना राष्ट्र समिति की जन बैठक के दौरान एक पल ऐसा भी आया जब ड्यूटी में पहली बार दोनों का आमना-सामना हुआ। सामने आते ही डीसीपी पिता ने अपने से बड़ी पोस्ट पर कार्यरत एसपी बेटी को सलाम किया और ये पल वाकई ऐतिहासिक बन गया। किसी भी पिता के लिए यह सबसे बड़ा सम्मान और गर्व का क्षण होगा।

दरअसल, उमामहेश्वरा शर्मा पुलिस सेवा में पिछले तीन दशकों से हैं और बेटी सिंधू शर्मा ने चार साल पहले ही पुलिस फोर्स ज्वाइन की है। सिंधू जगतियाल जिले में पुलिस अधीक्षक के तौर पर कार्यरत हैं। टीआरएस के समारोह में महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी सिंधु शर्मा को दी गई थी। उमा महेश्वरा कहा कि ‘ड्यूटी करते वक्त पहली बार हमारा आमना-सामना हुआ। मैं भाग्यशाली हूं जो उनके साथ काम करने का मौका मिला। डीसीपी उम्महेश्वरा शर्मा ने कहा कि, वो भले ही मेरी बेटी हो लेकिन यहां पर मेरी सीनियर ऑफिसर हैं। मैं जब उन्हें देखता हूं, मैं सलाम करता हूं। हम दोनों बिना प्रभावित हुए अपनी-अपनी ड्यूटी करते हैं। घर पर हम लोग बिल्कुल पिता और बेटी की तरह रहते हैं।

वहीं एसपी सिंधू शर्मा ने कहा “मेरे लिए ये अच्छा मौका है कि हमें साथ काम करने का मौका मिला।” सिंधू 2014 की आईपीएस अधिकारी हैं।

Share.