कम उम्र में साध्वी बनी ये लड़की

0

आप जब भी प्रवचन देखते होंगे  तो आपको अधेड़ उम्र के व्यक्ति ही प्रवचन देते दिखाई देते होंगे। ऐसे बहुत कम लोग होते हैं, जो छोटी आयु में साधु या साध्वी बन जाते हैं, लेकिन हम आपको ऐसी साध्वी के बारे में बताने जा रहे हैं, जो उम्र में बहुत छोटी हैं। 21 साल की इस साध्वी का मन बहुत ही कम आयु में भगवान से लग गया। मात्र 10 साल की आयु में उन्होंने अपना पहला सुंदरकांड पाठ किया था। दरअसल, हम जिस साध्वी की बात कर रहे हैं, उनका नाम जया किशोरी है। वे मात्र 21 वर्ष की हैं और उन्होंने दुनियाभर में अलग पहचान बना ली है।

जया केवल भारत में नहीं बल्कि विदेशों में भी प्रसिद्ध हैं। वह अक्सर सत्संग के लिए विदेश जाती रहती है। जया के सत्संग का टेलीकास्ट लाइव टीवी पर किया जाता है। उनकी आवाज़ जितनी मधुर है, उतनी ही खूबसूरत भी है। लोग उनकी आवाज़ के साथ उनकी सुंदरता के भी दीवाने हैं।

महज़ 10 साल की उम्र में ही जया किशोरी का दिल भगवान श्रीकृष्ण से लग गया। उनके घर में हमेशा से पूजा-पाठ का वातावरण था, जिस कारण उनका मन पूजा-अर्चना में लगने लगा। उन्होंने 10 साल की उम्र में पहली बार सुंदरकांड का पाठ किया था।

बता दें कि इतनी बड़ी साध्वी होने का असर जया की पढ़ाई पर नहीं पड़ा। उन्होंने सुंदरकांड के साथ अपनी पढ़ाई भी जारी रखी है। जया ने अपनी स्कूल की पढ़ाई कोलकाता के महादे बिरला अकादमी से पूरी की। फिलहाल वह भवानीपुर गुजराती सोसाइटी से आगे की पढ़ाई कर रही हैं।

Share.