वर्ष 2019 में इन 10 शायरों ने लूटी महफिल

0

एक जमाना था जब मिर्ज़ा ग़ालिब, मीर तकी मीर और फैज़ अहमद फैज़ की शायरी के लोग दीवानें हुआ करते थे, क्‍लासिक शायरी सुनने वाले आज भी उसी तरफ लौटते हैं (Best Shayaris Of 2019) लेकिन अब समय बदल रहा है आज का युवावर्ग भी शेर और शायरी में बढ़चढ़कर हिस्सा लें रही है। और समय बदलने के साथ ही शायरी का अंदाज और उसके मायने भी बदल गए हैं। इस नए दौर में नए चेहरे अपनी नई तरह की शायरी से अपना मुकाम बना रहे हैं। ऐसे 10 शायरों को हमने चुना है जिनमें से कुछ ने शायरी की दुनिया में अपना मुकाम बना लिया है तो कुछ नए शायर लगातार अपनी जगह बनाने में कामयाब हो रहे हैं। जानते हैं, 2019 में चर्चा में रहे ऐसे 10 शायरों के बारे में।

Raksha Bandhan 2019 Shayari : इन हिंदी शायरियों से दें रक्षाबंधन की शुभकामनाएं..

जावेद अख़्तर (Javed Akhtar)-

जावेद अख़्तर का नाम देश का बहुत ही जाना-पहचाना नाम हैं। जावेद अख्तर शायर (Best Shayaris Of 2019), फिल्मों के गीतकार और पटकथा लेखक तो हैं ही, सामाजिक कार्यकर्त्ता के रूप में भी एक प्रसिद्ध हस्ती हैं। इनका जन्म 17 जनवरी 1945 को ग्वालियर में हुआ था। पिता जाँ निसार अख़्तर प्रसिद्ध प्रगतिशील कवि और माता सफिया अखतर मशहूर उर्दु लेखिका तथा शिक्षिका थीं। ज़ावेद प्रगतिशील आंदोलन के एक और सितारे लोकप्रिय कवि मजाज़ के भांजे भी हैं। अपने दौर के प्रसिद्ध शायर मुज़्तर ख़ैराबादी जावेद के दादा थे। साहित्य जगत में जावेद अख़्तर का नाम बड़े अदब से लिया जाता है। जावेद अख्तर ने सिनेमा जगत के लिए कई गीत लिखें है। और शायरी की दुनिया में एक पुख्‍ता और हमेशा रहने वाला नाम है। उन्‍हें उनके गीतों के साथ ही शायरी और गजलों के कारण काफी ऊंचाई मिली है। नए और पुराने सुनकारों को मिलाकर उनके प्रशंसकों की एक लंबी फेहरिस्‍त है। गुलज़ार की तरह ही वे अपनी तबीयत के लिए एक ख़ास मुकाम रखते हैं।

प्रेरणादायक कहानी-मूर्तिकार और पत्थर


गुलज़ार (Gulzar)-

ग़ुलज़ार नाम से प्रसिद्ध सम्पूर्ण सिंह कालरा जन्म 18 अगस्त 1937 हिन्दी फिल्मों के एक प्रसिद्ध गीतकार (Best Shayaris Of 2019) हैं। इसके अतिरिक्त वे एक कवि, पटकथा लेखक, फ़िल्म निर्देशक तथा नाटककार हैं। उनकी रचनाए मुख्यतः हिन्दी, उर्दू तथा पंजाबी में हैं, परन्तु ब्रज भाषा, खङी बोली, मारवाड़ी और हरियाणवी में भी इन्होने रचनाये की। गुलजार को वर्ष 2002 में सहित्य अकादमी पुरस्कार और वर्ष 2004 में भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है। वर्ष 2009 में डैनी बॉयल निर्देशित फिल्म स्लम्डाग मिलियनेयर में उनके द्वारा लिखे गीत जय हो के लिये उन्हे सर्वश्रेष्ठ गीत का ऑस्कर पुरस्कार मिल चुका है। इसी गीत के लिये उन्हे ग्रैमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। इस दौर के सबसे पॉपुलर शायर में गुलज़ार का नाम पिछले कई दशकों से कायम है। वे सदाबहार की तरह शायरी की दुनिया में मौजूद और मौजूं हैं। चाहे गीत की बात हो या शेर और गजल की, वे लगातार शायरी के दीवानों की पसंद बने हुए हैं। अपनी इश्‍किया शायरी से उन्‍होंने नई जनरेशन के दिलों पर भी कब्‍जा जमा लिया है।

राहत इंदौरी (Rahat Indori)-

राहत का जन्म इंदौर में 1 जनवरी 1950 में कपड़ा मिल के कर्मचारी रफ्तुल्लाह कुरैशी और मकबूल उन निशा बेगम के यहाँ हुआ (Best Shayaris Of 2019)। वे उन दोनों की चौथी संतान हैं। उनकी प्रारंभिक शिक्षा नूतन स्कूल इंदौर में हुई। उन्होंने इस्लामिया करीमिया कॉलेज इंदौर से 1973 में अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी की और 1975 में बरकतउल्लाह विश्वविद्यालय, भोपाल से उर्दू साहित्य में एमए किया। तत्पश्चात 1985 में मध्य प्रदेश के मध्य प्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय से उर्दू साहित्य में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। इंदौर के शायर राहत इंदौरी के बारे में यह कहना मुश्‍किल है कि उनकी शायरी ज्‍यादा असर करती है या उनका अंदाज ए बयां। शायरी करते हुए वे मंच पर माइक का बेहतरीन इस्‍तेमाल करते हैं। उनके शेर सुनने वाला सुनने के साथ ही मंच पर उनके अंदाज का भी कायल हो जाता है। जहां शायरी के पुराने लोग उन्‍हें पसंद करते हैं, वहीं नए लोग भी उनके मुरीद होते जा रहे हैं।

मुनीर नियाजी (Muneer Niyazi)-

मुनीर अहमद नियाजी पाकिस्‍तान के होशियारपुर में जन्‍मे थे। साल 2006 में उनका निधन हो गया। उर्दू और पंजाबी भाषा में शायरी करने वाले मुनीर नियाजी को उनके निधन के बाद आज भी बहुत सुना जाता है। मुनीर अपने बेहद नर्म ख़्याल और लहजे के लिए जाने गए। उनकी शायरी में कभी तल्ख़ी नहीं सुनी गई। बेहद इत्‍मिनान से पॉज के साथ कहे गए उनके शेर आज भी नई जनरेशन के कान और ज़ेहन में गूंजते हैं। (Best Shayaris Of 2019)

मुनव्‍वर राणा (Munawar Rana)-

मुनव्वर राना का जन्म: 26 नवंबर 1952, रायबरेली, उत्तर प्रदेश में हुआ था ये उर्दू भाषा के साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता शाहदाबा के लिये उन्हें सन् 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वे लखनऊ में रहते हैं। मुनव्‍वर राणा अपनी शायरी में दर्द के लिए जाने जाते हैं, कई बार शेर पढ़ते हुए वे खुद दर्द के एक चेहरे में तब्‍दील हो जाते हैं। बेहद संजीदा किस्‍म में शायर राणा अब कम सक्रिय हैं, लेकिन उन्‍होंने इतने ज्‍यादा और इतनी जगहों पर अपनी शायरी का असर छोड़ा है कि लंबे समय तक कायम रहेगा। (Best Shayaris Of 2019)

परवीन शाकिर-

कई पुरुष दिग्‍गज शायरों में जिस महिला शायर ने बहुत ही खूबसूरती से अपना नाम और मुकाम कायम किया है उसका नाम परवीन शाकिर है। बेहद कम उम्र में लिखना शुरू करने वाली परवीन बेहद ही कम उम्र 42 साल में ही गुजर गईं। लेकिन इसके पहले वे काफी कुछ लिख गई और उर्दू की दुनिया में पूरी संजीदगी से अपना नाम दर्ज कर गईं। वे पाकिस्‍तान सिविल सेवा में भी रहीं, लेकिन उन्‍हें अपनी शायरी से ही पहचान मिली। (Best Shayaris Of 2019)

शिवकुमार बटालवी-

शिवकुमार बटालवी पंजाबी भाषा के बहुत ही प्रसिद्ध शायर रहे हैं। बहुत की कम उम्र में उन्‍होंने शायरी में अपनी जगह बनाई। इश्‍क की शायरी के लिए उन्‍हें खूब पसंद किया गया। पंजाबी में लिखने के बावजूद वे हिन्‍दी क्षेत्रों में लोकप्रिय शायर हुए। कहा जाता है कि उन्‍होंने शराब के नशे में ऐसी शायरी की ईजाद की कि शायरी पसंद अवाम नशे में डूब गई। (Best Shayaris Of 2019)

कुमार विश्‍वास (Kumar Vishwas)-

कुमार विश्‍वास को पूरी तरह से उर्दू शायर तो नहीं कहेंगे, लेकिन आज के दौर में हिन्‍दी कविता और ग़ज़ल के लिए उन्‍हें सबसे ज्‍यादा पसंद किया जा रहा है। वे नई जनरेशन की पसंद हैं। उन्‍हें सुनने के लिए सबसे ज्‍यादा युवाओं की भीड़ उमड़ती है। राजनीति छोड़कर अब पूरी तरह से मंच पर सक्रिय कुमार विश्‍वास को इस नए दौर में काफी लोकप्रियता मिल रही है। (Best Shayaris Of 2019)

प्रताप सोमवंशी-

नए दौर में प्रताप सोमवंशी एक प्रमुख दस्‍तखत हैं। उनकी कई गजलें बेहद लोकप्रिय हुई हैं। प्रताप सोमवंशी की कई कृतियां कन्‍नड़, बांग्‍ला और उर्दू में अनुवाद हो चुकी हैं। उनका ग़ज़ल संग्रह इतवार छोटा पड़ गया काफी चर्चा में रहा है। हिन्‍दी के अलावा, दूसरी भाषाओं में भी उन्‍हें काफी पसंद किया जा रहा है।

तहजीब हाफी-

तहजीब हाफी नई नस्‍ल के शायर हैं। 1988 में पाकिस्‍तान के सिंध में पैदा हुए। हिंदुस्‍तान और पाकिस्‍तान में काफी लोकप्रिय हैं। कई देशों में लोगों को अपना मुरीद बना चुके हैं। शायरी सुनने के वाले नए लोगों की खेप उन्‍हें जमकर सुन रही हैं। इश्‍क पर जो शायरी पढ़ते हैं तो वाह-वाह गूंज उठती है।

Govardhan Puja 2019 Messages : गोवर्धन पूजा पर इन संदेशों से दें शुभकामना

-Mradul tripathi

 

 

Share.