नवरात्रि के तीसरे दिन करे चंद्र देव को प्रसन्न

0

आज नवरात्रि का तीसरा दिन है । इस दिन माँ के चंद्रघंटा रुप की पूजा की जाती है।नवरात्रि में तीसरे दिन इसी देवी की पूजा-आराधना की जाती है। देवी का यह स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है।

ज्योतिषीय दृष्टि से नवरात्र का हर दिन एक ग्रह की पूजा और उपाय के लिए अतिउपयुक्त माना गया है। तृतीया का दिन चंद्र देव की प्रर्थना और शांति उपाय का विशेष महत्व है। माँ चंद्रघंटा की तरह ही चन्द्रमा ज्योतिष में सबसे सौम्य, शांतिदायक और कल्याणकारी ग्रह माना जाता है | जीवन के किसी भी क्षेत्र में शांति बिना चन्द्रमा की शुभ स्थिति के प्राप्त करना मुश्किल है |

आज के दिन चंद्र देव के नीचे दिए गए मंत्रो का पाठ जीवन में शान्ति और प्रसन्नता प्राप्त करने में विशेष लाभदायक रहते है –
चन्द्र नाम मंत्र –
ॐ सों सोमाय नम:।

चंद्र गायत्री मंत्र –

ॐ भूर्भुव: स्व: अमृतांगाय विदमहे कलारूपाय धीमहि तन्नो सोमो प्रचोदयात्।

चंद्र पौराणिक मंत्र –
दधिशंखतुषाराभं क्षीरोदार्णव सम्भवम ।
नमामि शशिनं सोमं शंभोर्मुकुट भूषणं ।।

चंद्र बीज मंत्र –

ॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चन्द्रमसे नम:।

ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम:।

साभार – pictureastrology.com

Share.