गणपति जी के ये उपाय दिलाएंगे बुरी शक्तियों से निजात

0

हर व्यक्ति के जीवन में वास्तुशास्त्र का बेहद महत्त्व होता है। अगर व्यक्ति सही तरीके से वास्तु के नियमों का पालन करे तो उसे जीवन में कभी भी किसी समस्या से नहीं जूझना पड़ता। लेकिन यदि घर में वास्तु दोष हो तो जीवन में कई तरह की परेशानियां आने लगती हैं। लेकिन हिंदू धार्मिक ग्रंथों भगवान श्री गणेश को विघ्नहर्ता कहा गया है। भगवान गणेश अपने भक्तों के सभी विघ्न हर लेते हैं। किसी भी शुभ कार्य को शुरू करने से पहले भगवान श्री गणेश की आराधना की जाती है। भगवान श्री गणेश को प्रथम देव भी कहा जाता है। इनकी आराधना के बिना किसी भी कार्य की शुरुआत नहीं की जाती।

हालांकि हर विघ्न को हरने वाले और भक्तों की सभी परेशानियों को दूर करने वाले श्री गणेश की मूर्ती को घर में स्थापित करते वक़्त या फिर उनकी तस्वीर लगते वक़्त लोग कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जिसकी वजह से उन्हें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। आज हम आपको उन्हीं गलतियों के बारे में बताने जा रहे हैं। तो चलिए जानते हैं गणेश भगवान से जुड़े हुए कुछ वास्तु टिप्स के बारे में।

अगर आपके घर का मुख्य द्वारा दक्षिण दिशा में है तो मुख्य द्वार के ऊपर श्री गणेश की छोटी से प्रतिमा अवश्य लगानी चाहिए। ऐसा करने से घर के समस्त वास्तु दोषों से छुटकारा मिल जाता है।

कई बार लोगों को घर में नकारात्मक शक्ति का अहसास होता है। अगर आपको भी अपने घर में ऐसा कुछ महसूस हो रहा है तो घर के मुख्य द्वारा पर श्री गणेश की नौ इंच लंबी मूर्ति जरूर स्थापित करना चाहिए। ऐसा करने से घर में किसी भी तरह की कोई नकारात्मक शक्ति प्रवेश नहीं कर सकती।

नए घर का निर्माण करवाते वक़्त घर की पूर्व दिशा में 6 इंच की गणेश जी की मूर्ती जरूर स्थापित करना चाहिए। जब तक आप नए घर में पूरी तरह से सेट न हो जाएं तब तक मूर्ती को वहां से नहीं हटाना चाहिए। इसके अलावा घर के किसी भी कमरे में भगवान गणेश की मूर्ती नहीं रखनी चाहिए।

Prabhat Jain

Share.