website counter widget

धन अभाव से जुड़े वास्तुदोष

0

वास्तु (vastu) से जुड़ी मान्यताओं के बारे में आप ज्यादा नहीं जानते होंगे | वास्तु (Vastu Tips for Financial Stability) का स्वास्थ्य, धन, रिश्तों और जीवन के तमाम पहलुओं पर असर होता है| ऐसे में धनवान बनने के लिए केवल धन कमाना से ज्यादा उसे सहेजना और बचाना जरुरी बताया गया हैं| चाहते हुए भी धन बच नहीं पाता है, वांछित-अवांछित और आकस्मिक खर्च बजट को बिगाड़ देते हैं| जिससे उबरने में बहुत समय ख़राब होता है | यह कर्ज का कारण भी बनता है| भारतीय वास्तुशास्त्र (vastushashtra) में धन को बचाने के कुछ अचूक उपाय बताए गए हैं जिनसे आप आकस्मिक खर्चों, से बचते हुए बचत और धन में वृद्धि प्राप्त कर सकते है|

तवा हुआ गंदा, तो संकट में पड़ जाएगा बंदा

Vastu Tips for Financial Stability In Hindi :

टपकते नल
नल से पानी का टपकते रहना भारतीय वास्तुशास्त्र  (vastushashtra) में धन हानि का एक बड़ा कारण माना गया है| यह अनदेखा नहीं करना चाहिए. मान्यता है कि नल से पानी का टपकते रहना धीरे-धीरे धन के खर्च होने का संकेत है. इसलिए नल के बिगड़ने पर तुरंत बदल देना चाहिए|

 दीवार पर टांगे धातु का सामान:
बेडरुम के प्रवेश द्वार के सामने वाली दीवार के बाएं कोने पर धातु की कोई चीज लटकाकर रखने की भी सही नहीं मन गया है| भारतीय वास्तुशास्त्र  (vastushashtra) के अनुसार यह स्थान भाग्य और संपत्ति का क्षेत्र है|

घर में कबाड़
वास्तु (vastushashtra) मानने वालों का कहना है कि घर में कबाड़, टूटे-फूटे बर्तन और सामानों को जमा करने से घर में नकारात्मक उर्जा में वृद्धि होती है| टूटा हुआ पलंग भी घर में खर्च बढ़ाता है और आमदनी में कमी लाता है|

हथेली में है यह योग तो तरक्की है निश्चित

जल निकासी
वास्तु  (vastushashtra) में विश्वास रखते हैं, तो वास्तु के अनुसार घर में इस्तेमाल पानी को निकलने का मार्ग वास्तु संगत होना चाहिए | भारतीय वास्तुशास्त्र में उत्तर दिशा और पूर्व दिशा में जल की निकासी आर्थिक दृष्टि से अच्छी मानी गयी है| वास्तुशास्त्र  (vastushashtra) के अनुसार जल की निकासी दक्षिण या पश्चिम दिशा में नहीं होना चाहिए |

Future By Palm Colour : हथेली के रंग का और भविष्य का गणित,

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.