website counter widget

इन लोगों को नहीं पहननी चाहिए लोहे की अंगूठी

0

अक्सर लोग बिना कुछ सोचे समझे कुछ भी धारण कर लेते हैं। ग्रहों की शांति के नाम पर कई लोग लोहे की अंगूठी  (Benefits Of Shani Rings)  भी धारण करते हैं, लेकिन कई बार इससे उनकी परेशानी कम होने के बजाय और बढ़ जाती हैं। ज्योतिषशास्त्र (Jyotishashtra) में कहा जाता है कि शनि देव ( Shani Dev) का प्रिय होता है लोहा। इसीलिए यदि कोई शनि की ढैय्या, साढ़े साती, दशा, महादशा या अन्तर्दशा से परेशान है तो उन्हें लोहे की अंगूठी धारण करना चाहिए। कई लोग बिना सोचे समझे शनि देव को प्रसन्न करने के लिए लोहे की अंगूठी (Benefits Of Shani Rings ) धारण कर लेते हैं , लेकिन कई बार इन सब के बावजूद भी शनि के बुरे प्रभाव का असर इंसान की ज़िंदगी से नहीं जाता है।

Weekly Horoscope : साप्ताहिक भविष्यफल 12 मई से 18 मई तक

कुंडली की जांच करवाएं

लोहे की अंगूठी (Benefits Of Shani Rings ) पहनने से पहले अपनी कुंडली की जांच जरूर करवा लें। किसी धातु को धारण करने से पहले ऐसा करना ही चाहिए। यदि आपकी कुंडली में शनि भारी और सूर्य, शुक्र और बुध मुश्तर्का में हैं तो लोहे की अंगूठी धारण करने से बचना चाहिए। ऐसे में आपके लिए चांदी की अंगूठी पहनना बेहतर होगा। अगर बुध 12वें भाव में हो या बुध एवं राहु मुश्तर्का या अलग अलग भावों में मंदे हो रहे हों तो लोहे की अंगूठी नहीं बल्कि लोहा गले में चेन या हाथ में कड़े के रूप में पहनना सही होगा।

भवन के वास्तु दोषों और बीमारियों का नाता

यदि जातक की कुंडली में सूर्य, शुक्र और बुध मुश्तर्का हो तो लोहे की अंगूठी (Benefits Of Shani Rings ) पहनने से बचना चाहिए। बुध यदि 12वें भाव में हो वह छठें यानी खाना नंबर 6 के तमाम ग्रहों को प्रभावित करता है। शनि के कुप्रभावों से बचने के लिए अंगूठी पहनने से पहले ज्योतिष सलाह जरूर लें।  यदि आपकी कुंडली में लोहा धारण करना शुभ है तो शनिवार के दिन शाम को अंगूठी धारण करें, इससे अधिक फायदा मिलेगा। यदि पुष्य, अनुराधा, उत्तरा, भाद्रपद एवं रोहिणी नक्षत्र हो तो इस दिन अंगूठी पहनना बेहद शुभ होता है।

गाय करती है वास्तुदोष निवारण

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.