शनि अमावस्या 2019 : इन उपाए से मिलेगा लाभ

0

वैसे तो शनिवार को शनि भगवान की उपासना की जाती है, ताकि शनि के प्रकोप से मुक्ति मिल सके। लेकिन नए साल के पहले शनिवार को ही पौष मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या भी पड़ रही है। पौष मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को स्नान दान की अमावस्या कहते हैं। अमावस्या के दिन शनिवार होने से इसे शनैश्चरी अमावस्या भी कहा जाता है। ऐसी मान्यता है कि शनैश्चरी अमावस्या के दिन दान-पुण्य करने से पितृ दोष दूर होते हैं, और साथ ही केतु व शनि की कुदृष्टि से भी बचा जा सकता है।

Related image

इस अमावस्या के दिन पितरों को दान, गरीबों को दान, गंगा जी जैसी पवित्र नदी में स्नान से पुण्य की प्राप्ति होती है और सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है। धन प्राप्ति, सुख समृद्धि और गृह शांति के लिए इस दिन व्रत रखना भी शुभफलदायक होता है। नए साल में 5 जनवरी को पड़ने वाली शनैश्चरी अमावस्या के दिन ही मूल नक्षत्र पड़ने के कारण या तिथि और भी असरकारक हो गई है। अगर इस दिन सही तरीके से उपाए किए जाएं तो यह आपको हर प्रकार के कष्ट से मुक्ति के साथ-साथ धनवान भी बना सकते है।

Image result for shani dev

केतु मूल नक्षत्र का स्वामी है और यह अमावस्या तिथि भी राहु और केतु के प्रभाव के कारण मानी जाती है। शनि और केतु की शान्ति के लिए इस अमावस्या के दिन पका हुआ अन्न दान करना बेहद लाभकारी माना जाता है। पितृ दोष का निवारण भी इस अमावस्या के दिन किया जा सकता है। पितृ दोष के निवारण के लिए पकी हुई काली उड़द और पके चावल का दान करें। दान के अलावा पितृ दोष का पूजन भी किया जाना चाहिए। पूजन के लिए पत्तल पर जौ, चावल, काले तिल, खीर और नींबू को रखकर दोपहर के समय पीपल के वृक्ष के नीचे रख दें। इस विधि को करने से पितृ दोष समाप्त हो जाता है।

प्रभात

सावधान : इन राशियों की बढ़ सकती है परेशानी

साल का पहला सूर्य ग्रहण बना सकता है धनवान

अंगुलियों की बनावट से जानें अपनी किस्मत

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.