सावन का दूसरा सोमवार : ऐसे करें भोले को प्रसन्न

2

आज सावन का दूसरा सोमवार है| आज सुबह से ही देशभर के शिवालयों में भक्तों का सैलाब उमड़ा हुआ है| सावन सोमवार के दिन देशभर में जगह-जगह कांवड़ियों की कांवड़ यात्रा देखने को मिल रही है| मंदिरों में जय बम भोले की गूंज के साथ श्रद्धालु शिवलिंग पर बेलपत्र, दूध व जल चढ़ाते नज़र आए| सावन माह में ही समुद्र मंथन के दौरान भगवान शिव ने विषपान किया था| इसके बाद सभी देवताओं ने भगवान शिव का जलाभिषेक किया था, तभी से भोलेनाथ का अभिषेक किया जाता है| सावन माह में आने वाले सोमवार का महत्व और अधिक माना जाता है क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि इसी माह भगवान शिव और माता पार्वती का मिलन हुआ था|

सावन का दूसरा सोमवार अपने साथ कई शुभ संयोग लेकर आया है| इस दिन भगवान शिव की सच्चे मन से पूजा आराधना करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं| सावन में इस बार 19 साल बाद चार सोमवार का शुभ संयोग बन रहा है| पहला सोमवार 30 जुलाई को बीत चुका है| ऐसा कहा जाता है कि सावन के दूसरे सोमवार को व्रत करने से आरोग्य प्राप्त होता है| सावन सोमवार का संयोग बेहतर स्वास्थ्य तथा बल बुद्धिकारक है|

आज सर्वार्थ सिद्धि योग बना है| इसके साथ ही वृद्धि योग और कृतिका नक्षत्र का संयोग बनने से भक्तों को भगवान का आशीर्वाद मिलेगा| भोलेनाथ को भांग, धतूरा, जल, दूध, बेलपत्र और शहद अर्पित करना शुभ माना जाता है| कालसर्प योग की शांति के लिए भी दूसरा सावन सोमवार बेहद शुभ है| आज शिव-शंभू के रुद्राभिषेक से विशेष लाभ और शिव की कृपा प्राप्त होती है|

सावन के तीसरे सोमवार को भी विशेष संयोग बन रहा है| तीसरे सोमवार को व्रत रखने से भी भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होगी| वहीं यह माना जाता है कि चौथे सोमवार के दिन जो कोई भक्ति भाव से भगवान शिव की उपासना करता है, उस पर सदैव शिव कृपा बनी रहती है|

Video: सावन के महीने में छाया भोजपुरी गीत

सावन विशेष : क्यों आज तक कोई नहीं चढ़ पाया ‘कैलाश पर्वत’ ?

Share.