website counter widget

गुरुपूर्णिमा पर साईं बाबा को चढ़ाएं महाप्रसाद, मनोकामना पूर्ति होगी

0

शिर्डी नाम सुनते ही साईं बाबा का अक्स हमारे जेहन में घूम जाता है | आप अक्सर सोचते होंगे कि ऐसा क्या है साईं में कि जो भी शिर्डी जाता है, वह साईं का ही होकर रह जाता है| कई लोग साईं बाबा को अपना गुरु मानते हैं| 16 जुलाई को गुरुपूर्णिमा है| इस दिन शिरडी साईं के महाप्रसाद में शामिल होने पर सब मनोकामनाएं (Sai Baba Mahaprasad fulfilled your wishes) पूर्ण होती हैं | आखिर कौन हैं साईं बाबा और क्या है उनकी महिमा| आइए जानते हैं साईं बाबा के महाप्रसाद और उनके वचनों की महिमा|

Aaj ka Rashifal : धनु के पास धन का आगमन होगा

उल्लेखनीय है कि हर साल आषाढ़ महीने की पूर्णिमा को गुरुपूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। इस बार यह महापर्व 16 जुलाई को मनाया जाएगा। ध्यान, ज्ञान, धैर्य और कर्म सब गुरु की ही देन है। ऐसे में जीवन में सभी समस्याओं से उबरने और सुख-समृद्धि और सेहत का आशीर्वाद पाने के लिए गुरु पूर्णिमा के दिन शिरडी साईं के महाप्रसाद (Sai Baba Mahaprasad fulfilled your wishes) में शामिल हों।

संत परंपरा में शिरडी के साईं बाबा का नाम बहुत ही श्रद्धा के साथ लिया जाता है। शिरडी के साईंबाबा, एक ऐसे सच्चे फकीर हैं, जिनके लाखों-करोड़ों भक्त देश-दुनिया में हैं। साईं भक्तों का मानना है कि भले ही आज बाबा का सशरीर नहीं नजर आते हों, लेकिन अप्रत्यक्ष रूप से हमेशा उनके साथ मौजूद हैं। उनके प्रसाद (Sai Baba Mahaprasad fulfilled your wishes) में तीन चीजें शामिल हैं |

1. मखाने और रेवड़ी
2. साईं बाबा की एक फोटो
3. साईं चालीसा

कृष्ण भगवान की बांसुरी से खुल जाएगी किस्मत

शिरडी-साईं बाबा का महाप्रसाद (Sai Baba Mahaprasad fulfilled your wishes) के लाभ 

# नौकरी या कारोबार में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए।
# सुखी दांपत्य जीवन और ​परिवार में खुशहाली के लिए।
# आर्थिक तंगी को दूर कर, धन-धान्य से परिपूर्ण होने के लिए।
# निरोगी जीवन और बीमारियों से मुक्ति के लिए।
# विवाह में आ रही बाधाओं को दूर करने और मनचाहा जीवन साथी पाने के लिए।

साईं बाबा और उनकी महिमा (Sai Baba Mahaprasad fulfilled your wishes)

# साईं बाबा को एक चमत्कारी पुरुष, अवतार और भगवान का स्वरुप माना जाता है|
#  इनको भक्ति परंपरा का प्रतीक माना जाता है|
#  साईं बाबा का जन्म और उनसे जुड़ी दूसरी चीजें अभी अज्ञात हैं|
# इनका मूल स्थान महाराष्ट्र का शिरडी है, जहां पर भक्त इनके स्थान के दर्शन के लिए जाते हैं|
# साईं को हर धर्म में मान्यता प्राप्त है, हर धर्म के मानने वाले साईं में आस्था रखते हैं|
# साईं की उपासना बृहस्पतिवार के दिन विशेष रूप से की जाती है|
#  मुख्यतौर पर तीन रूपों में की जाती है साईं की उपासना|
#  चमत्कारी पुरुष के रूप में, भगवान के रूप में और गुरु के रूप में|
#  गुरु के रूप में इनकी पूजा उपासना सबसे उत्तम होती है|

स्वस्थ और बुद्धिमान होते हैं मीन राशि के जातक

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.