Roop Chaturdashi 2019 : जानिए स्नान का शुभ मुहूर्त

0

दिवाली से एक दिवस पूर्व और धनतेरस के दूसरे दिन छोटी दिवाली यानी रूप चौदस (Roop Chaturdashi 2019) का त्यौहार मनाया जाता है। इसे नरक चतुर्दशी, छोटी दिवाली, काली चतुर्दशी आदि नामों से भी जाना जाता है। रूप चौदस का दिन महिलाओं के लिए बेहद ख़ास होता है। इस दिन व्रत रखने का भी अपना अलग महत्व होता है। हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार इस दिन सुबह सूर्योदय से पहले स्नान करने से समस्त पापों से मुक्ति मिलती है (Roop Chaturdashi 2019 Shubh Muhurat)। इतना ही नहीं इस दिन शाम को मृत्यु के देवता यमराज के निमित्त दीप जलाने यानी उन्हें दीपदान करने से अकाल मृत्यु से भी छुटकारा मिलता है। यमराज को दीपदान करने से पूर्वजों यानि कि पितरों का भी आशीर्वाद प्राप्त होता है।

Diwali 2019 Lakshmi Puja Aarti : इन मंत्रों और आरतियों से करें दिवाली पूजन

इस बार रूप चौदस (Roop Chaturdashi 2019) 26 अक्टूबर शनिवार को पड़ रही है। मान्यता है कि शुभ मुहूर्त में पूजा करने और घर के समस्त कौनों में दीपक जलाने से मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होता है और व्यक्ति को हर कष्ट व परेशानी से छुटकारा मितला है। वहीं सूर्योदय से पहले शुभ महूर्त में स्नान करने से समस्त पाप धुल जाते हैं और व्यक्ति को मृत्यु के पश्चात स्वर्ग की प्राप्ति होती है। वहीं इस दिन महिलाओं को सुबह स्नान करने के बाद हल्दी का उबटन लगाकर अपने सौंदर्य को निखारना चाहिए (Roop Chaturdashi 2019 Shubh Muhurat)। इस दिन महिलाओं को अपने सौंदर्य का विशेष ध्यान रखना चाहिए। अगर महिलाएं इस दिन अपने रूप को संवारती हैं तो उनका सौंदर्य साल भर निखारा हुआ रहता है। हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार इस दिन व्रत रखने से भगवान श्री कृष्ण का आशीष मिलता है और वे व्यक्ति को सौंदर्य प्रदान करते हैं।

Happy Roop Chaturdashi Messages 2019 : ऐसे दें रूप चतुर्दशी की शुभकामना

Roop Chaturdashi 2019 का सुबह मुहूर्त

नरक चतुदर्शी की तिथि – 27 अक्‍टूबर 2019

चतुदर्शी तिथि प्रारंभ – 26 अक्‍टूबर 2019 को दोपहर 03 बजकर 46 मिनट से

चतुदर्शी तिथि समाप्‍त – 27 अक्‍टूबर 2019 को दोपहर 12 बजकर 23 मिनट तक

अभिज्ञान स्‍नान मुहूर्त – 27 अक्‍टूबर 2019 को प्रातः 05 बजकर 16 मिनट से 06 बजकर 33 मिनट तक

स्नान की कुल अवधि – 01 घंटे 17 मिनट

आखिर रूप चौदश पर महिलाएं क्यों करती है श्रृंगार

Prabhat Jain

Share.