सावन में भूलकर भी न करें यह भूल नहीं तो…

0

आज यानी 28 जुलाई से सावन का महीना शुरू हो गया है| इस महीने में भगवान भोलेनाथ की पूजा-अर्चना कर उन्हें मनाया जाता है, प्रसन्न किया जाता है| इस महीने को श्रावण मास भी कहते हैं|  हिन्दी पंचांग के सभी बारह महीनों में श्रावण मास का विशेष महत्व माना जाता है| कहते हैं कि जो लोग इस माह में शिवजी की पूजा करते हैं, उनके सभी दुख दूर हो जाते हैं| कार्यों में आ रही मुश्किलें खत्म हो जाती हैं और देवी-देवताओं की कृपा प्राप्त होती है|

सावन का शुभारंभ शनिवार से हुआ है और समापन रविवार को होगा| इस बार सावन में राजसी योग बन रहा है, जो वर्षों बाद आया है| सावन महीने का पहला सोमवार 30 जुलाई को होगा| इस महीने में हर सोमवार भगवान को प्रसन्न करने के लिए भक्त व्रत रखते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपकी कुछ गतिविधियों से भगवान रुष्ट हो सकते हैं| आइए जानते हैं कि सावन में क्या-क्या सावधानी रखनी चाहिए|

पूजा के समय शिवलिंग पर भूलकर भी हल्दी न चढ़ाएं|

व्रत के दौरान सब्जियां और साग नहीं खाना चाहिए|

जो भी व्यक्ति भगवान् को प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते हैं, उन्हें शरीर पर तेल नहीं लगाना चाहिए और न ही कांसे के बर्तन में भोजन करना चाहिए|

सावन में मांस-मदिरा आदि के सेवन से बचना चाहिए| इस महीने में शादी जैसे शुभ कार्य भी नहीं किए जाते हैं| पूरे 30 दिन ब्रह्मचर्य व्रत के नियमों का पालन करना चाहिए|

कहा जाता है कि इस महीने भगवान का अभिषेक दूध से किया जाता है इसलिए दूध का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए|

इस महीने में यदि आपके द्वार पर नंदी आ जाए तो उसे मारकर भगाने के बजाय कुछ खाने को दें क्योंकि सांड को भगवान शिव की सवारी माना जाता है|

सावन के महीने में प्रतिदिन भगवान शिव का जलाभिषेक करना चाहिए|

व्रत के दौरान दिन में सोना भी नहीं चाहिए|

बैंगन को अशुद्ध माना जाता है इसलिए इस महीने इसका सेवन नहीं करना चाहिए| द्वादशी, चतुर्दशी के दिन और कार्तिक मास में भी बैंगन खाने की मनाही होती है|

इस महीने क्रोध में किसी को अपशब्द नहीं कहना चाहिए और बड़े बुजुर्गों का हमेशा सम्मान करना चाहिए| इन दिनों शिव-पार्वती की पूजा से दांपत्य जीवन में प्रेम और तालमेल बढ़ता है, इसलिए किसी बात से मनमुटाव की आशंका होने पर शिव-पार्वती की पूजा करनी चाहिए|

इन राशियों के लिए सावन है ख़ास

पूरे 30 दिन का होगा सावन

सावन का पहला सोमवार, शिवमय हुआ शहर

Share.