ये 8 शुभ संयोग इस नवरात्री को बना रहे हैं बेहद खास

0

कल यानी रविवार 29 सितंबर से शारदीय नवरात्रि आरंभ होने जा रही है। इस शारदीय नवरात्रि के बारे में देवीभागवत पुराण में बताया गया है कि इस बार माता रानी गज यानी हाथी पर सवार होकर आ रही हैं। पुराण के अनुसार यह अच्छी वर्षा और उन्नत कृषि का सूचक है। वहां इस बार की नवत्रात्रि (Navratri 2019 Grah Nakshatra ) में 8 बेहद शुभ संयोग भी बनने जा रहे हैं जो भक्तों के लिए बेहद ही शुभ फलदायी साबित होंगे। नवरात्रि के 9 दिनों में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा व आराधना की जाती है। कल यानी 29 सितंबर को मां दुर्गा की प्रतिमा की घट स्थापना की जाएगी जिसे कलश स्थापना भी कहते हैं। लेकिन आपको बता दें कि इस बार घट स्थापना के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग, अमृत सिद्धि योग और द्विपुष्कर नामक शुभ संयोग बन रहे हैं।

Today Rashifal 28  September 2019 : संभलकर रहे इस राशि के जातक  

नवरात्रि (Navratri 2019 Grah Nakshatra) में 9 दिनों तक मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की आराधना की जाती है और 10वें दिन विसर्जन किया जाता है। लेकिन तिथियों की वजह से ऐसा संभव नहीं होता और 9 दिन में ही विसर्जन कर दिया जाता है। लेकिन इस बार पूरे नौ दिनों तक माता रानी के नौ स्वरूपों की आराधना की जाएगी और दसवें दिन विसर्जन किया जाएगा। इस बार नवरात्रि 29 सितंबर से आरंभ होगी और इस दिन घट स्थापना के बाद 7 अक्टूबर को नवमी की पूजा की जाएगी। इसके बाद 8 अक्टूबर को देवी विसर्जन किया जाएगा। इस नवरात्रि में दो सोमवार और दो रविवार पड़ेंगे। पुराणों के अनुसार नवरात्रि में दो सोमवार होना बेहद शुभफलदायी होता है।

चंद्रमा सूर्य की सिंह राशि में करेगा प्रवेश, जानिए प्रभाव

वहीं इस बार हस्त नक्षत्र में नवरात्रि (Navrarti 2019) का आरंभ हो रहा है जो बेहद ही शुभ संयोग है। पुराणों में इस हस्त नक्षत्र को 26 नक्षत्रों में सबसे शुभ माना गया है और यह 13वां नक्षत्र है। इसका स्वामी चंद्रमा है। ऐसा कहा गया है कि यह नक्षत्र ज्ञान, मुक्ति और मोक्ष प्रदान करने वाला होता है। इस नवरात्रि के दौरान दो बार 30 सितंबर और 2 अक्टूबर को अमृत सिद्धि योग बन रहे हैं। इसके अलावा तीन दिन 1 अक्टूबर, 4 अक्टूबर और 5 अक्टूबर को रवियोग बन रहा है। इसी योग में विसर्जन भी किया जाएगा मतलब विजयादशमी का त्योहार भी इसी योग में मनाया जाएगा। इस बार की नवरात्रि (Navratri 2019) इसलिए और भी शुभ फलदायी है क्योंकि इस बारे नवरात्रि के दौरान 4 सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहे हैं। सर्वार्थ सिद्धि योग में साधकों को सिद्धि प्राप्त होती है। मतलब इस नवरात्रि में साधकों को पर्याप्त अवसर मिल रहे हैं। इस तरह इस नवरात्रि में 8 शुभ संयोग बन रहे हैं।

चंद्रमा सूर्य की सिंह राशि में करेगा प्रवेश, जानिए प्रभाव

Prabhat Jain

Share.