Navratri 2019 : बुद्धि की देवी स्कंदमाता की पूजा विधि और मंत्र

0

पूरे देश में शारदीय नवरात्रि की धूम मची हुई है। भक्त माता की आराधना में डूबे हुए हैं। आज यानी 3 अक्टूबर गुरुवार के दिन नवरात्रि का पांचवा दिन है। नवरात्रि (Navratri 2019 Day 5th) के पांचवे दिन मां दुर्गा के पांचवे स्वरूप सकंदमाता की आराधना की जाती है। स्कंद कुमार अर्थात भगवान कार्तिकेय की माता होने की वजह से इन्हे सकंदमाता कहा जाता है। दुर्गा सप्तसती शास्त्र में सकंदमाता को चेतान्सी कहा गया है। सकंदमाता को विद्वानों और सेवकों को पैदा करने वाली शक्ति के रूप में जाना व पूजा जाता है। स्कंदमाता को करुणा और वात्सल्य की देवी कहा जाता है। वहीं हिन्दू धर्म में मान्यता है कि स्कंदमाता की सच्चे मन से आराधना करने पर संतान की प्राप्ति होती है।

Today Rashifal 3 October 2019 : खुशियाँ लेकर आया आज का दिन

स्वरुप और आसन

स्कंदमाता कमल के आसन पर विराजित रहती हैं। स्कंदमाता की चार भुजाएं हैं (Shardiya Navratri Skandmata Puja)। उनकी एक भुजा स्कंद कुमार को गोद में बैठा कर पकड़े हुए है। वहीं दूसरी और चौथी भुजा में मां कमल का फूल लिए हुए हैं। जबकि उनकी तीसरी भुजा भक्तों की आशीर्वाद देने वाली मुद्रा में है।

Navratri 2019 : नवरात्रि के चौथे दिन करे गुरु ग्रह को प्रसन्न

मंत्र

स्कंदमाता की आरधना करते हुए उनके मंत्र का उच्चारण करना चाहिए। सकंदमाता का मंत्र जपने से वे बेहद जल्द प्रसन्न हो जाती हैं और उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है।

या देवी सर्वभू‍तेषु मां स्‍कंदमाता रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

संतान प्राप्ति के लिए स्‍कंदमाता की पूजा विधि-विधान से करनी चाहिए। इसके लिए स्कंदमाता को लौंग व कपूर में अनार के दाने मिलाकर आहुति दें। अगर विवाह में बाधा आ रही है तो इसे दूर करने के लिए 11 कपूर के टुकड़े और 21 लौंग के जोड़े व पांच हल्दी की गांठें चावल में मिलाकर आहुति दें। स्कंदमाता सभी समस्याओं का समाधान करती हैं। वहीं माता की कृपा से बच्चों की बुद्धि तेज होती है।

केले का भोग

स्कंदमाता को सुनहरी चुन्नी व चूड़ियां अर्पण करें और नीले वस्त्र धारण करें। घर में सुख-शांति व समृद्धि के लिए स्कंदमाता को अलसी का भोग लगाएं। स्कंदमाता की आराधना हमेशा पद्मासन या सिद्धासन में बैठकर ही करना चाहिए। जिन बच्चों की बुद्धि का विकास नहीं हुआ है या फिर जो पढाई-लिखाई में कमजोर हैं उन्हें स्कंदमाता की आराधना जरूर करनी चाहिए। स्कंदमाता बुद्धि का विकास करती हैं।

Navratri 2019 : नवरात्री के चौथे दिन मां कुष्मांडा की आराधना से मिलता है लाभ

Prabhat Jain

Share.