कब से शुरू होगा सावन माह, पहले दिन क्या खरीदना होगा शुभ?

0

श्रावण यानी की सावन माह का आरम्भ होने जा रहा है। सावन माह में भगवान भोले नाथ की आराधना का माह। इस माह में कांवड़िये कांवड़ यात्रा निकालते हैं। वहीं सावन माह का पहला दिन बेहद ही पवित्र माना जाता है और यह शिव का प्रतीक होता है। इस दिन शिव के प्रतीक या फिर शुभ सामग्री घर में लाने से कई तरह की समस्याओं से छुटकारा मिलता है। तो चलिए जानते हैं कि आखिर सावन के पहले दिन किन-किन वस्तुओं को घर में लाया जा सकता है।

Panna Gemstone : हर मुश्किल का हल है पन्ना

सबसे पहले तो आपको यह बता दें कि श्रावण माह की शुरुआत कब हो रही है और किस-किस दिन इसके प्रमुख व्रत हैं।

  • श्रावण माह का पहला दिन – बुधवार, 17 जुलाई
  • प्रथम सावन सोमवार व्रत – 22 जुलाई
  • द्वितीय सावन सोमवार व्रत – 29 जुलाई
  • तृतीय सावन सोमवार व्रत – 05 अगस्त
  • चतुर्थ सावन सोमवार व्रत – 12 अगस्त
  • श्रावण माह का अंतिम दिन – गुरुवार, 15 अगस्त

यह तो थी मुख्य तिथि जिस दिन सावन की शुरुआत होगी और किन तिथियों को व्रत रखा जाएगा और सावन माह की समाप्ति किस तिथि को होगी। अब जानते हैं वे 5 शुभ प्रतीक वाली चीज़ें जिन्हें सावन माह के पहले दिन खरीदना बेहद ही शुभ होता है।

काला जादू की चमत्कारी विद्या

1 – त्रिशूल

भगवान भोलेनाथ के हाथ में हमेशा ही त्रिशूल दिखता है। यह त्रिदेव और 3 लोक का प्रतीक चिन्ह है। इसी वजह से इसे बेहद शुभ माना जाता है। सावन माह के पहले दिन चांदी का त्रिशूल घर में लाने से सभी समस्याओं का समाधान होता है।

2 – रुद्राक्ष

असली रुद्राक्ष सुख, सौभाग्य, समृद्धि और मन की पवित्रता के लिए घर में लाना चाहिए। असली रुद्राक्ष को चांदी में गढ़वा कर धारण करना चाहिए। इससे आपके जीवन में सुख-शांति और समृद्धि आती है।

Yatra Mantra : यह मंत्र आपकी हर यात्रा को बनाएगा सुखद

3 – डमरू

त्रिशूल की तरह डमरू भी भोलेनाथ को अति-प्रिय होता है। कहा जाता है कि इसकी ध्वनि से समस्त पापों का नाश होता है और नकारात्मक शक्तियां दूर भागती हैं। सावन माह के प्रथम दिन डमरू को घर में लाने से घर के सभी सदस्यों का स्वास्थ्य ठीक रहता है।

4 – चांदी के नंदी

नंदी भगवान शिव का न सिर्फ वाहन है बल्कि उनका गण भी है। इसलिए सावन माह के आरम्भ में चांदी के नंदी को घर में लाना और उनकी पूजा करना बेहद ही शुभ माना जाता है। इससे भोलेनाथ की कृपा प्राप्त होती है।

5 – सर्प

शिव-शंकर के गले में हमेशा ही नाग यानी की सर्पों की माला रहती है। सर्पराज हर समय भगवान शिव के गले में रहते हैं। इसलिए सावन माह के पहले दिन चांदी के नाग-नागिन के जोड़े को घर में लाना बेहद ही शुभ माना जाता है। सावन माह में इनकी पूजा करने के बाद सावन माह के अंतिम दिन इसे किसी शिव मंदिर में रख दें। ऐसा करने से काल सर्प दोष और पितृ दोष समाप्त होता है।

Share.