website counter widget

Shani Dev Pooja Vidhi : शनिदेव की पूजा करने का सही तरीका जानें

0

भगवान शनिदेव सूर्यदेवता के पुत्र हैं| शनिदेवता का दिन शनिवार माना जाता है| इस दिन शनि देवता का पूजन करने से उनकी विशेष कृपा प्राप्त होती है| बहुत से ऐसे लोग हैं, शनिदेव से बहुत डरते हैं| उन्हें यह भय लगा रहता है कि कहीं शनिदेव कुपित न हो जाएं, कहीं उनकी वक्रदृष्टि उन पर न पड़ जाए, जो गलत है| दरअसल, शनिदेव को न्‍याय का देवता माना जाता है, जो सभी के कर्मों का फल (Shani Dev Pooja Vidhi ) देते हैं। यदि आपके कर्म बुरे हों तो वे दंड देंगे वहीं यदि आपने अच्छे कर्म किए होंगे तो आप पर शनिदेव की कृपा बरसेगी|     

अगले 8 दिनों तक न करें कोई शुभ काम, जानें क्यों

Related image          

विद्वानों द्वारा कहा जाता है कि यदि कुंडली में शनि अशुभ हो तो व्यक्ति को किसी भी काम में आसानी से सफलता नहीं मिल पाती है। इसके लिए उनकी पूजा-आराधना करना चाहिए| शनि कृपा के लिए शनिवार को पूजा, व्रत, दान जैसे कई उपाय बताए जाते हैं। यदि शनि देव किसी व्यक्ति से नाराज़ हो जाते हैं तो उसके जीवन में समस्याएं शुरू हो जाती हैं, परेशानियां जल्द दूर नहीं होती हैं|

दरअसल लोग शनिदेव की पूजा तो करते हैं, परन्तु उसका सही तरीका नहीं जानते हैं| यदि व्‍यक्‍ति भगवान शनि की पूजा शनिवार को पूरे मन और सही तरीके से करता है तो शनिदेव की उस पर असीम कृपा बरसती है और ग्रहों की दशा भी सुधरती है।

Holi 2019 : होली पर चमकेगी इन राशियों की किस्मत

Image result for नीलांजन समाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम छायामार्तंड

आइये जानते हैं कि शनिवार को किस तरह पूजा करने (Shani Dev Pooja Vidhi ) पर आप पर शनिदेव की कृपा बरसेगी| 

नीलांजन समाभासं रवि पुत्रं यमाग्रजम | छायामार्तंड संभूतं तं नमामि शनैश्चरम ||

इस मंत्र ( Shani Mantra) का शनिवार को उच्चारण करें| इससे शनिदेव खुश होते हैं|

# शनिवार को मांस-मछली, मदिरा के सेवन से जो दूर रहें। मछलियों को खाना खिलाएं, इस चीज से शनि हमेशा प्रसन्न रहते हैं।

शनि महाराज को तेल के दीये के साथ काली उड़द और फिर कोई भी काली वस्‍तु भेंट करें।

यदि आपके घर के आसपास शनि देव का मंदिर न हो तो पीपल के पेड़ के नीचे दीपक जलाएं।

Image result for शनिदेव

हर शनिवार को मंदिर में सरसों के तेल का दीपक जरूर जलाएं। इस दीपक को भगवान के मंदिर में उनकी शिला के सामने जलाएं।

शनिदेव को भेंट चढ़ाने के बाद शनि चालीसा पढ़ें।

शनि देव की पूजा करने के बाद हनुमानजी की पूजा करें। उनकी मूर्ति पर सिंदूर लगाएं और केला चढ़ाएं।

आखिर में शनि देव का मंत्र पढ़ें। ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:|

गुरुवार के व्रत में जपे साईं का नाम, बनेंगे बिगड़े काम

अंकुर उपाध्याय

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Loading...
Share.