Pitru Paksha 2019 : हर संकट से मुक्ति के लिए पितृपक्ष में लगाएं ये पौधे

0

श्राद्ध पक्ष यानी कि पितृ पक्ष की शुरुआत हो चुकी है। श्राद्ध पक्ष में पितरों का श्राद्ध कर्म किया जाता है ताकि हमारे पूर्वजों को मुक्ति प्राप्त हो सके। हिन्दू धर्म में पितृपक्ष का बेहद ज्यादा महत्त्व है। कहते हैं कि पितृ पक्ष की 15 दिनों की अवधि के दौरान यमराज पितरों को मुक्त कर देते हैं ताकि वे पृथ्वी लोक पर आकर अपने परिजन से तर्पण स्वीकार कर सकें। वहीं कहा जाता है कि पेड़-पौधों में भी जान होती है और इन पर पितरों व आत्माओं का निवास माना जाता है। धर्म शास्त्रों में यह भी बताया गया है कि वृक्ष समस्त तरह की नकारात्मक व सकारात्मक शक्तियों को महसूस करते हैं। इसके अलावा कई वृक्ष सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करने में सक्षम होते हैं। आज हम आपको ऐसे ही पेड़-पौधों के बारे में बताने जा रहे हैं।

अगर पितृपक्ष में शुभ पेड़-पौधों को लगाया जाए और उनकी उपासना की जाए तो पितरों का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है। इसलिए पितरों का श्राद्ध करने के साथ उन्हें प्रसन्न करने के लिए इन पौधों को भी जरूर रोपना चाहिए। ये पितरों को प्रसन्न करने के साथ ही आपको सकारत्मक ऊर्जा प्रदान करते हैं।

पीपल का पेड़

वैसे तो पीपल को हिंदू धर्म में बेहद ज्यादा पवित्र वृक्ष माना जाता है। इसलिए श्राद्ध पक्ष में इसकी उपासना करना बेहद शुभ होता है। रोजाना शाम को पीपल के वृक्ष के नीचे दीपक जलना चाहिए और इसे जल अर्पित करना चाहिए।

बरगद का पेड़

बरगद के वृक्ष को मोक्ष प्रदान करने वाला और आयु देने वाला वृक्ष कहा जाता है। अगर आयु समस्या हो तो बरगद के पौधे को लगाना चाहिए। अगर पितरों की मुक्ति की कामना करते हैं तो इस वृक्ष के नीचे बैठकर भगवान शिव की आराधना करनी चाहिए।

बेल का पेड़

यह वृक्ष भगवान भोलेनाथ का अत्यंत प्रिय वृक्ष माना जाता है। यह वृक्ष भी मोक्ष प्रदान करता है। अगर श्राद्ध के दिनों में इस वृक्ष को लगाया जाए तो अतृप्त आत्मा को शांति मिलती हैं और उसे मुक्ति मिल जाती है।

Prabhat Jain

Share.