website counter widget

आइए जानते हैं ज्योतिष के दसवें भाव के बारे में

0

ज्योतिष में दसवे भाव को कर्म भाव की संज्ञा दी गई है | इससे मानव जीवन के बाहरी कामकाज उसकी सामाजिक जीवन में उच्च स्तर पर पहुंचने की क्षमता और कार्यक्षेत्र का पता किया जा सकता है | दसवे भाव को पितृ  भाव भी माना जाता है अर्थात इस भाव से मनुष्य के पिता संबंधित बातों का पता चलता है|

Today Rashifal 16 November 2019 : इन जातकों के लिए आज का दिन है खास

काल पुरुष की कुंडली में दसवें भाव दोपहर के 12:00 बजे का समय दर्शाता है | इस समय सूर्य आकाश पटल पर सबसे उच्च स्थिति में होता है और उजाला सर्वाधिक रहता है | इसी तरह यह भाव भी मानव जीवन के उस पहलू को दर्शाता है जिसके बारे में सभी लोगों को जानकारी होती है | दसवे भाव पर शुभ ग्रहों का प्रभाव मनुष्य के कार्यक्षेत्र में आसानी से प्रगति होने को दिखाता है |

Today Rashifal 15 November 2019 : इन जातकों के लिए आज का दिन है खास

इस भाव में अगर गुरु और बुध जैसे ग्रहों का अधिक प्रभाव हो तो मनुष्य मैनेजमेंट,  लेखन इत्यादि जुड़ी हुई चीजों में व्यवसाय कर सकता है | बुध और गुरु का सर्वाधिक प्रभाव बड़े स्कूलों और कॉलेजों में प्रोफेसर रिसर्च अनुसंधानकर्ता बड़े अखबारों में एडिटर न्यूज़ चैनल में संवाददाता इत्यादि व्यवसाय को दिखाता है | उसी तरह अगर मंगल और शनि जैसे ग्रहों का प्रभाव अगर दसवीं भाव पर ज्यादा हो तो मुझसे उद्योगी क्षेत्र में उन्नति कर सकता है | मंगल और शनि अक्सर लोहे और लकड़ी से जुड़े हुए व्यवसाय को भी दिखाते हैं | शुक्र और बुध ग्रह अगर दसवें भाव में ज्यादा प्रभावित होते हैं साथ ही अगर चंद्रमा भी उस में सम्मिलित होता है तो मनुष्य कला के क्षेत्र में आगे बढ़ सकता है और यह कला का कोई भी क्षेत्र हो सकता है जैसे कि गायन वादन नृत्य फिल्म उद्योग इत्यादि | दसवे भाव में और साथ में सूर्य की उच्च स्थिति मनुष्य के जीवन में सफलता का एक मूलभूत चिन्ह  होता है |

आइए जानते हैं कुंडली के नौवें भाव के बारे में 

साभार – pictureastrology.com

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.