महंगे रत्नों सा लाभ देते हैं ये उपरत्न

0

ज्योतिष (jyotish) के लिहाज से कुंडली में दोष के निवारण के लिए कई तरह के रत्न पहनने की सलाह दी जाती है | ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से मुख्य रूप से नौ रत्न है जो कि काफी महंगे होते हैं और इनके नकली होने का भी अंदेशा रहता है | ऐसे में हर किसी के द्वारा इनका ख़रीदा जाना जरा मुश्किल होता है| इस समस्या का एक हल है रत्नों के स्थान पर उपरत्न | यह सस्ते और कारगर भी होते है| एक ग्रह के लिए मुख्य रूप से एक रत्न और कई सारे उपरत्न होते हैं|  रत्नों के उप रत्नों के बारे में जानिए इस खबर में –

शुक्रवार को करें दही का सेवन होगा चमत्कार

सूर्य
– सूर्य का मुख्य रत्न माणिक्य है जिसकी जगह तामड़ी , लालड़ी , लाल तुरमली और गार्नेट भी धारण किये जा सकते है| माणिक्य का सबसे अच्छा उपरत्न “स्पाइनल” होता है जिसे अनामिका अंगुली में ताम्बे में धारण करना सही बताया गया है|

चन्द्रमा
– चन्द्रमा का मुख्य रत्न मोती है जिसका उपरत्न मून स्टोन और ऐगेट हैं|

मंगल
– मंगल का मुख्य रत्न मूंगा है और इसका उपरत्न लाल हकीक है जिसे ताम्बे में धारण करने से लाभ होता है|

बुध
– बुध का मुख्य रत्न पन्ना है और उपरत्न हरा  बैरुज , ओनेक्स , मरगज हैं| सबसे अच्छा उपरत्न मरगज माना जाता है इसे चांदी में धारण करना शुभ होता है|

वास्तु के यह उपाय बढ़ाएंगे सास-बहू के बीच प्रेम

बृहस्पति
– बृहस्पति का मुख्य रत्न पीला पुखराज होता है| उपरत्न पीला बैरुज , सुनहला , येलो सिट्रीन है | पीला बैरुज सबसे अच्छा उप रत्न है जिसे पीतल या सोने के साथ पहनना शुभ है|

शुक्र
– शुक्र का मुख्य रत्न हीरा है| उपरत्न जरकन , अमेरिकन डायमंड और ओपल हैं| ओपल सबसे अच्छा उपरत्न है| इसे चांदी में धारण करना चाहिए|

शनि
– शनि का मुख्य रत्न नीलम हैं| नीलम के उपरत्न नीली , नीला टोपाज , लाजवर्त,तंजनाईट और सोडालाइट हैं| सबसे अच्छा उपरत्न तंजनाईट माना जाता है| चांदी में धारण करने की सलाह दी जाती है|

दीपक जलाते हुए बोले यह खास मंत्र बन जाएंगे बिगड़े काम

Share.