इस साल विवाह के केवल तीन मुहूर्त शेष

1

हिंदू धर्म के अनुसार, देवउठनी ग्यारस यानी देवशयनी एकादशी से विवाह शुरू हो जाते हैं, लेकिन इस बार विवाह के मुहूर्त बहुत कम हैं| 7 दिसंबर को गुरु के तारे के उदय के साथ ही वैवाहिक आयोजन शुरू होंगे, लेकिन शहनाई की गूंज कम ही सुनाई देगी| दरअसल, 16 दिसंबर से धनु मलमास के लगने के बाद वैवाहिक आयोजनों पर रोक लग जाएगी|

7 से 16 दिसंबर के मध्य विवाह के केवल तीन मुहूर्त कुछ पंचांगों में दिए गए हैं| उन मुहूर्त में ही विवाह को शुभ माना गया है| इसके बाद धनु मलमास लगेगा, जो मकर संक्रांति तक रहेगा यानी तब तक फिर से विवाह पर रोक लग जाएगी| दरअसल, गुरु कन्या के लिए पति कारक होता है, वहीं शुक्र को भी विवाह के लिए शुभ माना जाता है| इन दोनों ग्रहों का अस्त होना दांपत्य जीवन के लिए हानिकारक माना जाता है|

इस साल के शुभ मुहूर्त 

इस साल 11, 12 और 13 दिसंबर को विवाह की शुभ तिथियां हैं| ग्यारस के बाद भी विवाह के लिए शुभ मुहूर्त नहीं बन पाया था| इसके बाद विवाह करने के लिए काफी लंबा इंतजार करना पड़ सकता है|

जनवरी में मकर संक्रांति के बाद 17, 18, 22, 23, 25, 26, 29, 30 को विवाह के लिए शुभ मुहूर्त हैं|

फरवरी महीने में 8, 9, 10, 14, 19, 20, 21 को विवाह के लिए शुभ मुहूर्त हैं|

इसके बाद मार्च में 7, 8, 9 और 12 तारीख और इसके बाद 13 मार्च से 9 अप्रैल 2019 तक खरमास होने से वैवाहिक आयोजनों पर रोक लग जाएगी|

Share.