Shradh 2019 Dates : श्राद्ध का महत्व व महत्वपूर्ण तिथि

0

इस वर्ष 13 सितंबर से श्राद्ध पक्ष शुरू हो रहा है। श्राद्ध पक्ष में श्राद्ध कर्म किए जाते हैं और इसकी 15 दिनों की अवधि रहती है। इन 15 दिनों में ही पूर्वजों का तर्पण किया जाता है। श्राद्ध पक्ष को पितृपक्ष और महालय भी कहा जाता है। पितृ पक्ष भाद्रपद पूर्णिमा से आश्विन माह की अमावस्या तक रहता है (Shradh 2019 Dates)। शास्त्रों के अनुसार इन 15 दिनों की अवधि यानी कि श्राद्ध पक्ष में हमारे पूर्वज जिनका देहांत हो चुका है वे सभी प्रथ्वी लोक पर किसी न किसी सूक्ष्म रूप में आते हैं और अपने परिजनों द्वारा किए गए तर्पण को स्वीकार करते हैं।

Today Rashifal 06 September 2019 : इन जातकों का आर्थिक संकट होगा खत्म

क्या है श्राद्ध?

श्राद्ध का अर्थ होता है अपने पितरों यानी कि पूर्वजों को प्रसन्न करना। हिंदू धर्म शास्त्रों के मुताबिक़ जिनका देहांत हो गया है उनकी आत्मा को शान्ति देने, उन्हें तृप्त करने और उनकी उन्नति के लिए जो तर्पण किया जाता है उसे श्राद्ध कहा जाता है। शास्त्रों में कहा गया है कि इस अवधि में मृत्यु के देवता यमराज हमारे पूर्वजों को अपने परिजन से तर्पण स्वीकार करने हेतु मुक्त कर देते हैं। बच्चा, बूढा या जवान, स्त्री या पुरुष जिनका देहांत हो चुका है, मतलब जो अपना शरीर त्याग चुके हैं उन्हें पितर कहते हैं (Shradh 2019 Dates)। वे इस श्राद्ध पक्ष के दौरान अपने परिजन को आशीर्वाद देने पृथ्वी पर आते है और तर्पण स्वीकार कर वापस लौट जाते हैं। पितरों को प्रसन्न करने से घर में सुख-शांति और समृद्धि आती है। पूरा श्राद्ध पक्ष पितरों को समर्पित होता है।

जानिए कैसे होते हैं तुला राशि के जातक

पितृ पक्ष में पूर्वजों को याद करना और उनकी विधिवत पूजा-अर्चना कर उनका पिंड दान करने से उनकी आत्मा तृप्त होती है और उन्हें शान्ति मिलती है। पिंड दान करने से पूर्वजों का आशीर्वाद प्राप्त होता है। जिन्हें अपने पूर्वज की मृत्यु तिथि याद नहीं उन्हें शास्त्रों के अनुसार आश्विन अमावस्या को तर्पण करना चाहिए। इसलिए इस अमावस्या को सर्वपितृ अमावस्या कहते हैं। वैसे तो श्राद्ध पुत्र को करना चाहिए लेकिन यदि पुत्र न हो तो पत्नी या पति श्राद्ध कर सकता है। इसके अलावा पुत्र का पुत्र यानी पौत्र भी श्राद्ध कर सकता है।

इस बार पड़ने वाले श्राद्ध पक्ष की महत्वपूर्ण तिथियां

पूर्णिमा श्राद्ध- 13 सितंबर 2019
पंचमी श्राद्ध- 19 सितंबर 2019
एकादशी श्राद्ध- 25 सितंबर 2019
मघा श्राद्ध- 26 सितंबर 2019
सर्वपितृ अमावस्या- 28 सितंबर 2019

ऐसे होते हैं कन्या राशि के जातक, जानिए विशेषताएँ

Prabhat

Share.