क्या आप भी करते हैं संडे की सुबह ये काम!

0

संडे आने से पहले ही उस दिन क्या करना है इसकी प्लानिंग शुरू हो जाती है| शनिवार को देर तक जागना, फिर रविवार की सुबह देर तक सोना, ज्यादातर लोग ऐसा ही करते हैं| कहीं आप भी ऐसा तो नहीं करते हैं! दरअसल, रविवार को फन डे मानकर आपके द्वारा अपनाया गया मस्ती का मूड आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है|

शास्त्रों के अनुसार जो लोग शनिवार देर रात तक जागते हैं और रविवार सुबह देरी से उठते हैं, वह अपने स्वास्थ्य के साथ तो खिलवाड़ करते ही हैं साथ में नवग्रह के प्रधान ग्रह सूर्य को भी निराश करते हैं| जिन लोगों का सूर्य कमजोर होता है उनमें ये निशानियां देखी जा सकती हैं| जैसे गुरु और पिता से संबंध खराब होना, नौकरी में समस्याएं, सोने से बनी चीजें गुम हो जाती हैं या चोरी, आलस्य और थकावट रहना, पेट, आंख और हृदय के रोग होना, अहंकारी स्वभाव, विवादों में फंसे रहना आदि|

यदि आप भी ऐसा ही कुछ करते हैं या फिर ऊपर बताई गई समस्याओं से परेशान तो इन सभी समस्याओं से बचने के लिए संडे सुबह सूर्य देव को अर्घ्य दें| ऐसा करना आपके लिए लाभदायक हो सकता है| ये परंपरा प्राचीनकाल से चली आ रही है| रामायण में भी बताया गया है कि श्रीराम अपने दिन का आरंभ सूर्य देव को जल चढ़ाने से करते थे| महाभारत में दानवीर कर्ण भी सूर्य देव को जल अर्पित करने से दिचचर्या का आरंभ करते थे|

सूर्य को जल अर्पित करने से से कम होंगे ये प्रभाव –

कुंडली से सूर्य का अशुभ प्रभाव ख़त्म करता है|

जो लोग भीड़ देखकर घबराते हैं उनमें सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ाता है|

जिन पर हमेशा नेगेटिविटी हावी रहती हैं उन्हें भी सूर्य देव को जल अर्पित करना चाहिए|

यदि आप नेम और फेम पाना चाहते हैं तो भी सूर्य देव को अर्पित करना चाहिए|

यह खबर भी पढ़े- क्यों चार महीने तक सोए रहते हैं भगवान?, जानिए

यह खबर भी पढ़े – इन राशियों के लिए सावन है ख़ास

यह खबर भी पढ़े – सीधा पढ़ो तो ‘रामायण’, उल्टा पढ़ो तो ‘कृष्ण भागवत’

Share.