website counter widget

election

Govardhan Puja 2018 :  इस मुहूर्त में पूजा कर करें भगवान को प्रसन्न

0

पांच दिनों तक चलने वाला दीपावली का त्यौहार गोवर्धन पूजा के बिना अधूरा होता है| कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को होने वाली गोवर्धन पूजा दीपावली के अगले दिन की जाती है| इस बार गोवर्धन पूजा 8 अगस्त को आ रही है| इस त्यौहार को कई लोग अन्नकूट के नाम से भी जानते हैं| इसमें अन्नकूट का अर्थ होता है अन्न  का समूह| गोवर्धन पूजा का महत्व गांवों और किसानों के लिए ज्यादा है। गांव में गोवर्धन पूजा के दिन भगवान को तरह-तरह के अनाज से बने प्रसाद का भोग लगाते हैं| इस पर्व को ‘बलि प्रतिपदा’ एवं ‘बलि पड़वा’ भी कहा जाता है|

क्यों मनाते हैं त्यौहार

प्राचीन मान्यताओं के अनुसार कहा जाता है कि भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी अंगुली पर उठाकर गोकुलवासियों की इंद्र के कोप से रक्षा की थी| उसके बाद से ही प्रतिवर्ष गोवर्धन पूजा का त्यौहार मनाया जाने लगा| आंगन में गाय के गोबर से गोवर्धननाथजी आकृतियां बनाई जाती है| इसके बाद गोवर्धन को फूल और अन्न चढ़ाए जाते हैं|

ऐसे करें पूजा 

गोवर्धन पूजा के दिन सबसे पहले ब्रह्म मुहूर्त में उठकर शरीर पर तेल  मलकर स्नान करें और इसके बाद आंगन में द्वार पर गाय के गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाएं| गोवर्धन को फूल आदि से सजाकर पूजन करें और अन्न चढ़ाएं|

शुभ मुहूर्त –

इस वर्ष पूजा के लिए दो मुहूर्त शुभ है, एक सुबह का और दूसरा दोपहर का| आइये जानते हैं पूजा के शुभ मुहूर्त –

पहला – सुबह 6.42 से 8.51 तक

दूसरा – दोपहर 3.18 से शाम 5.27 तक

Share.