नागपंचमी पर ऐसे करें पूजा, जानिए पौराणिक कथा

0

15 अगस्त को देशभर में नागपंचमी मनाई जा रही है| इस दिन सुबह से ही शिवालयों में भक्तों का सैलाब उमड़ जाता है| इस  दिन नागों की पूजा करने से नागदेवता प्रसन्न होते हैं और परिवार में किसी की सर्पदंश से मृत्यु हुई हो तो उनको मुक्ति मिलती है| सावन के महीने में नाग की पूजा करने, नागपंचमी के दिन दूध पिलाने से नागदेवता प्रसन्न होते हैं| नाग की पूजा करने से नागदंश का भय नहीं रहता है| ऐसा माना जाता है नागों की पूजा से अन्‍न-धन के भंडार भी भरे रहते हैं| चलिए जानते हैं कि कैसे पूजा करके नागदेवता को प्रसन्न करें|

ऐसे करें पूजन

पहले प्रातःकाल उठकर घर की सफाई कर स्नान आदि कर तैयार हो जाएं|

पूजा के लिए सेंवई-चावल या अन्य प्रसाद बनाएं|

इस दिन कई स्थानों पर घर की दीवार पर गेरू पोतकर पूजा स्थान बनाया जाता है| इसके बाद कच्चे दूध में कोयला घिसकर उससे गेरू पुती दीवार पर घर जैसा बनाया जाता है| इसमें नागदेवों की आकृतियां बनाएं|

कई स्थानों पर सोने, चांदी, काठ व मिट्टी की कलम, हल्दी-चंदन से अथवा गोबर से दरवाजे के दोनों बगलों में पांच फन वाले नागदेव का चित्र भी बनाते हैं| इसके बाद भगवान का व्रत रखें| व्रत के बारे में गरुड़ पुराण में लिखा है कि व्रत रखने वाले को अपने घर के मुख्य द्वार के दोनों ओर गोबर से नागों के चित्र बनाने चाहिए और मिट्टी या आटे के सांप बनाकर उन्हें अलग-अलग रंगों से सजाना चाहिए| सजाने के बाद फूल, खीर, दूध, दीप आदि से उनकी पूजा करें क्योंकि नागदेवता को पंचम तिथि का स्वामी माना जाता है। पूजा के बाद भुने हुए चने और जौ को प्रसाद के रूप में बांट दें|

पौराणिक कथा –

कहते हैं कि किसी राज्य में एक किसान रहता था, जिसके दो पुत्र और एक पुत्री थी| एक दिन हल जोतते समय हल से नाग के तीन बच्चे कुचलकर मर गए| इसके बाद नागिन पहले तो विलाप करती रही, फिर उसने अपनी संतान के हत्यारे से बदला लेने का संकल्प किया| रात्रि को अंधेरे में नागिन ने किसान, उसकी पत्नी व दोनों लड़कों को डंस लिया|अगली सुबह किसान की पुत्री को डंसने के लिए नागिन फिर वहां पहुंची| किसान कन्या ने उसके सामने दूध का कटोरा रख दिया और हाथ जोड़ क्षमा मांगने लगी| नागिन ने प्रसन्न होकर उसके माता-पिता व दोनों भाइयों को जीवनदान दे दिया| उस दिन श्रावण शुक्ल पंचमी थी| तब से आज तक नागों के कोप से बचने के लिए इस दिन नागों की पूजा की जाती है|

Share.