Chhath Puja 2019 : जानिए छठ पूजा का शुभ मुहूर्त

0

हाल ही में देश भर में बड़ी ही धूम-धाम से दिवाली का महापर्व मनाया गया। दिवाली (Diwali 2019) हिंदू धर्म का सबसे बड़ा पर्व है। दिवाली का यह महापर्व पूरे 5 दिन मनाया जाता है (Chhath Puja Shubh Muhurat)। दिवाली का त्यौहार समाप्त होने के 6 दिनों के बाद देश भर में छठ का त्यौहार मनाया जाता है। कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से ही छठ माता की उपासना शुरू हो जाती है जो सप्तमी तिथि तक की जाती है। बता दें कि छठ पूजा की शुरुआत यानी चतुर्थी के दिन नहाय खाय का दिन होता है (Chhath Puja 2019)। नहाय खाय में व्रती का तन और मन दोनों ही पूरी तरह से शुद्ध हो जाता है। इस दिन व्रत रखने वाले सुद्ध और सात्विक भोजन ही ग्रहण करते हैं।

जानिए कुंडली का पांचवा भाव

चतुर्थी (Chhath Puja Shubh Muhurat) को नहाय खाय के बाद पंचमी तिथि को खरना किया जाता है। इस दिन व्रती पूरे दिन का व्रत रखते हैं। मतलब इस दिन व्रती का निराहार व्रत होता है। शाम को गुड़ वाली खीर का प्रसाद बनाया जाता है और छठी मैया के साथ सूर्य देवता की पूजा कर उन्हें भोग लगाकर इसी का प्रसाद ग्रहण किया जाता है (Chhath Puja 2019)। इसके बाद षष्टि तिथि को निर्जला व्रत रखा जाता है शाम को सूर्यास्त के समय व्रत रखने वाली महिलाएं नदी या तालाब में खड़े हो कर सूर्य देवता को अर्घ्य प्रदान करती हैं। इसके बाद में अपनी मनोकामना सूर्य देवता को बताती हैं। इसके बाद अगले दिन यानी सप्तमी तिथि को सूर्योदय के समय भी नदी या तालाब में खड़े होकर सूर्य देव को जल चढ़ाया जाता है। महिलाएं सूर्य देव से अपनी मनोकामना पूर्ण करने की प्रार्थना करती हैं।

आइये आज जानते हैं ज्योतिष में चौथे भाव के बारे में

इस बार छठ पूजन और इसका व्रत कल 31 अक्टूबर यानी गुरुवार से प्रारंभ हो रहा है। कोई भी पूजा हो उसके लिए कोई न कोई शुभ मुहूर्त तो जरूर होता है उसी तरह छठ पूजा (Chhath Puja 2019) का भी शुभ मुहूर्त है। शुभ मुहूर्त में पूजा करने से अधिक लाभ प्राप्त होता है। तो चलिए जानते हैं इस बार छठ पूजा का शुभ मुहूर्त।

अलमारी की दिशा बदल देगी आपकी किस्मत

छठ पूजन कैलेंडर —

छठ पूजा, नहाय खाए – 31 अक्टूबर

खरना का दिन – 1 नवम्बर

संध्या अर्घ्य का दिन – 2 नवम्बर

उषा अर्घ्य का दिन – 3 नवम्बर

 

शुभ मुहूर्त —

छठ पूजा 2 नवंबर, शनिवार

सूर्योदय का शुभ मुहूर्त 06 बजकर 33 मिनट

सूर्यास्त का शुभ मुहूर्त शाम 05 बजकर 33 मिनट

षष्ठी तिथि आरंभ – 2 नवंबर 2019, रात्रि 12 बजकर 51

षष्ठी तिथि समाप्त – 3 नवंबर 2019 01:31

Prabhat Jain

Share.