सावधान! क्या आप भी पहनते हैं दो रत्न?

0

किसी भी ग्रह के अशुभ प्रभाव को खत्म करने और शांतिभरा जीवन जीने के लिए ज्योतिष शास्त्र में रत्न पहनने की सलाह दी जाती है| रत्न जितने लाभकारी होते हैं, कभी-कभी उतने ही हानिकारक भी साबित होते हैं| बिना पहचाने रत्नों को ग्रहण करने से फायदे की जगह नुकसान होने लगता है क्योंकि हर रत्न किसी रत्न विशेष के साथ लाभ देता है|

कुछ ऐसे रत्न होते हैं, जिन्हें साथ में पहनना भी हानिकारक होता है| शत्रु ग्रहों के रत्न एक साथ पहनने पर शारीरिक, मानसिक या आर्थिक परेशानी खड़ी हो सकती है| ऐसे में व्यक्ति के स्वभाव में भी परिवर्तन आने लगता है| आइये जानते हैं किन रत्नों को साथ में नहीं पहनना चाहिए|

माणिक्य रत्न के साथ शुक्र, शनि, राहु और केतु के रत्न यानी हीरा, नीलम, गोमेद और लहसुनिया नहीं पहनना चाहिए| इन्हें साथ में पहनने से जातक को बड़ा नुकसान हो सकता है| ऐसे मोती जिसे चंद्रमा का रत्न माना जाता है, उसे हीरा, पन्ना, नीलम, गोमेद या लहसुनिया के साथ नहीं पहनना चाहिए| इन्हें साथ में पहनने से नींद की कमी, मन का उचटना, कामकाज में मन नहीं लगना और तनाव जैसी समस्याएं हो सकती हैं|

मूंगा जिसे मंगल का रत्न कहा जाता है उसे पन्ना, हीरा, गोमेद, नीलम और लहसुनिया के साथ नहीं पहनना चाहिए| ऐसा करने से जातकों का गुस्सा बढ़ता है|

बुध का रत्न कहलाए जाने वाले पन्ना को पुखराज, मूंगा और मोती के साथ पहनने से बचना चाहिए| इससे धन की हानि हो सकती है| ऐसे ही बृहस्पति के रत्न पुखराज के साथ हीरा, पन्ना, नीलम और गोमेद नहीं पहनना चाहिए| शुक्र के रत्न हीरा के साथ माणिक्य, मोती, मूंगा और पुखराज पहनने से धन हानि हो सकती है| शनि के रत्न नीलम के साथ माणिक्य, मूंगा, मोती और पुखराज नहीं पहनना चाहिए| इससे सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ता है| ऐसे ही राहु के रत्न गोमेद के साथ माणिक्य, मूंगा, मोती और पुखराज नहीं पहनना चाहिए। राहु की तरह ही केतु के रत्न लहसुनिया के साथ भी माणिक्य, मूंगा, पुखराज और मोती पहनने से बचना चाहिए|

Share.