व्‍यापार में तरक्‍की के अचूक उपाय

0

आज के दौर में हर व्यक्ति को अपनी जीविका चलाने के लिए काफी मेहनत और मशक्कत करनी पड़ती है। चाहे कोई व्यक्ति नौकरी करता हो या व्यापार, हर क्षेत्र में उसे कई उतार-चढ़ावों का सामना करना ही पड़ता है। लेकिन कई व्यक्तियों को हर वक़्त ही परेशानियों से जूझना पड़ता है। ऐसे में कई बार उनकी ग्रहदशा ठीक न होने पर या फिर किसी अन्य कारणों की वजह से उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ता है। कई लोगों को व्यापार में लगातार घाटा लगता है। कई उपाय अपनाने के बाद भी उन्हें सफलता नहीं मिलती। लेकिन अगर वास्तु के अनुसार कुछ उपाय किए जाएं तो आपको लाभ अवश्य ही मिलता है। तो चलिए जानते हैं सफलता पाने के कुछ उपाय के बारे में(Jyotish Upay For Business Growth)।

सबसे पहले तो आपको बता दें कि वास्तु में उत्तर दिशा को सबसे शुभ माना गया है। इस दिशा को धन की दिशा या फिर धन का स्थान माना गया है। आप अपने व्यापार में सफलता पाने के लिए इस दिशा में धन के देवता कुबेर को स्थापित करें। इसके अलावा इस दिशा में हरियाली दिखाने वाली कोई पेंटिंग लगाना चाहिए।

वास्तुशास्त्र में उत्तर-पूर्व दिशा को अनवरत प्रवाह की दिशा कहा गया है। वास्तु के अनुसार इस दिशा में क्रिस्‍टल का पिरामिड रखना शुभ माना जाता है। इसे रखने से आपको अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए नए-नए तरीके दिमाग में आते रहते हैं। इससे आपके व्यापार की तरक्की के नए रास्ते खुलते हैं (Jyotish Upay For Business Growth)।

दुकान या कार्यालय के अलावा घर की उत्‍तर-पूर्वी और उत्तरी दिशा भी व्यापर की मंदी को रोकती है। घर की यह दिशा आपके व्यापार में तरक्की के लिए काफी महत्वपूर्ण है। घर के इस कौन या दिशा में आपको पीतल का शेर रखना चाहिए। यह शेर आपके व्यापर को नई ऊंचाइयों पर ले जाता है।

अगर आप अपने प्रतिष्ठान में कोई शोपीस रखना चाहते हैं तो इसके लिए आप खरगोश का एक जोड़ा शोपीस के तौर पर रखिए। इस शोपीस को आप पूर्व या फिर दक्षिण-पूर्व दिशा में रखिए। यह आपको उचित समय पर उचित फैसले लेने में मदद करता है।

शतरंज का खेल तेज दिमाग का प्रतीक कहा जाता है। अगर आप अपने घर की पश्चिम दिशा में शतरंज के खेल की बिसात बिछा कर रखते हैं तो इससे आपके अंदर व्यापर चलने की कुशलता पैदा होती है।

सोना-चांदी ही नहीं अक्षय तृतीया पर इन वस्तुओं का भी है महत्व

Share.