इन दो शिवलिंगों के दर्शन मात्र से खुलेंगे भाग्य…

0

सावन के महीने का आज अंतिम सोमवार है| आज शिवालयों में भक्तों की सुबह से ही भीड़ लगी हुई है| कहते हैं कि आज के दिन पूजा-अर्चना करने से सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं| आज हम आपको दो शिवलिंगों के बारे में बता रहे हैं, जिनमें से एक शिवलिंग 5000 वर्ष पुराना है तो दूसरा शिवलिंग सफ़ेद रंग का है, जिसमें 1001 छेद हैं| प्राचीन मान्यताओं के अनुसार, कहा जाता है कि इनके दर्शन मात्र से ही सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है| आइए जानते हैं इनकी विशेषताओं के बारे में…

5000 साल पुराना शिवलिंग

भगवान शिव हिन्दू धर्म के 33 करोड़ देवी देवताओं में प्रमुख माने जाते हैं| भगवान शिव का लगभग 5000 वर्ष पुराना एक ऐसा शिवलिंग है, जहां भगवान् से जो मांगो, वह पूरा हो जाता है| गुजरात के मोसाद से लगभग 14 किमी दूर यह स्थित है, जो 1940 में एक खुदाई के दौरान मिला था| इसके साथ और भी बहुत चीजें मिली थीं| इसे जलेश्वर महादेव मंदिर के नाम से भी जाना जाता है| इसके दर्शन करने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं| सावन में हर दिन यहां भक्तों का सैलाब उमड़ जाता है|

मध्यप्रदेश में 1001 छेदों वाला अद्भुत शिवलिंग, महामृत्युंजय मंदिर

भोलेनाथ के महामृत्युंजय मंत्र के बारे में तो सभी जानते हैं, लेकिन क्या आप महामृत्युंजय मंदिर के बारे में जानते हैं? दरअसल, मध्यप्रदेश के रीवा में स्थित मंदिर में सफ़ेद रंग का 1001 छेदों वाला अद्भुत शिवलिंग स्थित है| ऐसा माना जाता है कि भोलेनाथ मृत्युंजय इस मंदिर में विराजते हैं| जो भी भक्तशिवलिंग के दर्शन कर लेता है और मुराद मांगता है तो उसके दिल की सभी इच्छाएं पूरी हो जाती हैं| जब भक्तों की मुराद पूरी हो जाती हो तो मंदिर की परम्परा के अनुसार भक्त शिवलिंग पर बिल्वपत्र चढ़ाते हैं और नारियल बांधते हैं|

जानिए, क्यों सावन का आखिरी सोमवार है ख़ास?

Share.