इंदौर में नेत्रहीन बालिकाओं का एक अनोखा गरबा

0

इंदौर: प्रकृति के बारे में कहा जाता है की यह सबके साथ न्याय करती है. लेकिन मै जब भी दिव्यांगों को देखता हूँ तो मेरे ह्रदय में अक्सर ये सवाल उठता है की क्या इनके साथ भी ये न्याय है। कुछ लोग बचपन से ही भिन्न क्षमता वाले होते है और कुछ लोग किसी दुर्घटना के कारण इस स्थिति में पहुंच जाते है (Blind Girls Garba Event In Indore)। लेकिन इन सब कठिनाइयों के बावजूद ये लोग एक सामान्य व्यक्ति की तरह ही अपने जीवन को आगे बढ़ाने का प्रयास करते है। अपनी दृढ इच्छशक्ति से हर वो कार्य करने का प्रयास करते है जो एक सामान्य व्यक्ति कर सकता है। अपनी संकल्प शक्ति, श्रम ,और सकारात्मक सोच के द्वारा महेश द्रष्टिहीन कल्याण संघ की दृष्टिबाधित बालिकाओं द्वारा एक ऐसा ही उदहारण पेश किया जा रहा है।

Indore News : इंदौर में साध्वी प्रज्ञा का विरोध

जानकारी के अनुसार महेश द्रष्टिहीन कल्याण संघ कि दृष्टिबाधित बालिकाओं के द्वारा हर साल की तरह इस साल भी 6 अक्टूबर शाम 5 बजे से गरबा कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। जिसमे 150 नेत्रहीन बालिकाओं के द्वारा गरबा किया जाएगा। इस कार्यक्रम की तैयारी ये बालिकाएं विगत 1 माह से कर रही है। शारीरिक अक्षमता और अल्प साधन के बावजूद इस प्रकार के कार्यक्रम के आयोजन का साहस दिखाना बेहद सराहनीय है (Blind Girls Garba Event In Indore)। इन बालिकाओं के द्वारा यह आयोजन इस बात को दर्शाता है की यदि आपके अंदर कुछ करने की तमन्ना है तो कोई भी कमी या रुकावट आपको नहीं रोक सकती है।

CRESCENT RESORT में इंजीनियर परिवार की आत्महत्या में नया मोड

महेश द्रष्टिहीन कल्याण संघ के अनुसार इस कार्यक्रम को आयोजित करने का मुख्य लक्ष्य इन बालिकाओं की सोच को विकसित करना है। और उनको यह एहसास दिलाना है की वो वह सारे काम कर सकती है जो एक सामान्य व्यक्ति कर सकता है। साथ ही इन बालिकाओं को समाज की मुख्य धारा से जोड़ना है एवं इनका सर्वांगीण विकास करना संस्था का प्रयास है। इस पूरे कार्यक्रम की भूमिका महेश द्रष्टिहीन कल्याण संघ की प्रमुख डाली जोशी जी (विकास अधिकारी)  के द्वारा बनाई गई।

-Mradul tripathi

Share.