website counter widget

image1

image2

image3

image4

image5

image6

image7

image8

image9

image10

image11

image12

image13

image14

image15

image16

image17

image18

जहरीली हवा के असर से बचाएगा इन पांच चीजों का सेवन

0

देश में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ते जा रहा है| हाल ही में ‘वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन’ द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, देश की हालत बहुत बुरी हो रही है| 2016 में एक लाख से भी ज्यादा बच्चों की जहरीली हवा में सांस लेने की वजह से मौत हो गई| बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण बीमारों की संख्या भी बढ़ रही है| राजधानी में तो प्रदूषण इतना बढ़ गया है कि वहां बिना मास्क के लोग घर से बाहर नहीं निकल रहे हैं| ऐसे में अपनी सेहत का ध्यान रखना बहुत ज़रूरी हो गया है| आज हम आपको ऐसी पांच चीजों के बारे में बता रहे हैं, जिनके सेवन से आप भी जहरीली हवा के असर से काफी हद तक बच सकते हैं|

टमाटर

सब्जियों का स्वाद बढ़ाने वाला टमाटर आपकी सेहत के लिए बहुत ज्यादा लाभदायक होता है| इसमें पाए जाने वाला बीटा कैरोटिन, विटामिन सी और लाइकोपिन अस्थमा से लेकर किसी भी तरह की सांस की बीमारी को दूर करता है| टमाटर का सेवन करने से फेफड़े स्वस्थ रहते हैं|

अलसी के बीज

अलसी के बीज में ओमेगा-थ्री फैटी एसिड और फोटो एस्ट्रोजन की मात्रा अधिक होती है इसलिए इनके सेवन से भी सांस संबंधित सभी बीमारियां दूर हो जाती हैं| अलसी के बीज खाने से अस्थमा जैसी खतरनाक बीमारी से भी छुटकारा पाया जा सकता है| अलसी को भूनकर और पीसकर उसे सलाद में या सब्जियों में भी डालकर खा सकते हैं|

हल्दी

हल्दी में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होता है, जो कई बीमारियों से शरीर की रक्षा करता है और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाता है| इसके सेवन से प्रदूषण के असर को कम किया जा सकता है| हल्दी, गुड़ और बटर को मिलाकर दूध में पीने से या फिर हल्दी को गुनगुने पानी में डालकर पीने से लाभ मिलता है|

ब्रोकली

एक शोध में यह बात साबित हो चुकी है कि रोज ब्रोकली खाने से वायु प्रदूषण का असर बहुत कम होता है| इसमें एंटी-कार्सिनोजेनिक प्रॉपर्टी होती है, जो हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है|

पालक

पलक एक बेहतर एंटीऑक्सिडेंट है, जिससे कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से भी छुटकारा मिल जाता है| इसमें ल्यूटिन, क्लोरोफिल और बीटा कैरोटिन भरपूर मात्रा में होता है, जिससे जहरीली हवा के कारण फेफड़ों पर होने वाले दुष्प्रभाव से बचा जा सकता है|

Share.