website counter widget

ये आसन कमर दर्द को कर देंगे चुटकियों में गायब

0

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में व्यक्ति अपनी सेहत का ध्यान नहीं रख पाता। वहीं लगातार कई घंटों तक कुर्सी पर बैठे रहने की वजह से अधिकतर लोगों को एसिडिटी और कमर दर्द जैसी समस्या से जूझना पड़ता है। आज के दौरन में अधिकतर व्यक्ति चाहे वह पुरुष या महिला कमर दर्द से पीड़ित है। कुर्सी पर लगातार कई घंटों तक बैठे रहने से हमारी कमर के निचले हिस्से पर ज्यादा असर पड़ता है। इसी वजह से अधिकतर लोगों को वर्क रिलेटेड मस्क्यूलोस्केलेटल डिसऑर्डर (WMSDs) बीमारी हो जाती है। हमारे देश में यह बीमारी सबसे कॉमन है।

हालिया रिसर्च रिपोर्ट की माने तो दुनियाभर में 24-39 आयु वर्ग के 4।2 फीसदी लोगों को कमर के निचले हिस्से में दर्द की समस्या है। वहीं यदि 20-59 आयु वर्ग की बात करें तो यह प्रतिशत 19।6 तक बढ़ जाता है। हालांकि इस समस्या से नियमित व्यायाम और एक्सरसाइज निजात दिला सकता है। दरअसल व्यायाम और एक्सरसाइज मांसपेशियों को मजबूत बनाते हैं। लेकिन यदि आप इन्हें आजमाना चाहते हैं तो आपको एक अनुभवी टीचर या प्रशिक्षित ट्रेनर के साथ इन्हें आजमाना चाहिए। चलिए जानते हैं कुछ आसनों के बारे में।

सेतुबंध सर्वांगासन (Bridge pose):

कमर दर्द से राहत पाने के लिए इस आसन को करें। इसके लिए सर्वप्रथम समतल सतह पर पीठ के बल लेट जाएं। अब घुटनों को मोड़ते हुए मजबूती के साथ पैरों को जमीन पर चिपकाएं रखें। हाथों को भी शरीर के साथ जमीन पर सीधा रखें और शरीर को धीरे-धीरे ऊपर की तरफ उठाएं। थोड़ी देर बाद शरीर को नीचे लाएं। पैरों और कंधों पर वजन का संतुलन रखें। हाथ और कंधे फर्श पर ही रहना चाहिए। इस आसन को 30 सेकंड से 1 मिनट तक करें।

त्रिकोणासन (Extended triangle pose):

इस आसन को करने के लिए सीधे खड़े होकर पैरों के बीच करीब 3-4 फीट की दूरी बना लें और हाथ को फर्श के समानांतर उठाकर अंग्रेजी अक्षर “T” की स्थिति में लाएं। अब दाहिने पैर के अंगूठे को आगे की ओर तथा बाएं पैर के अंगूठे को अपनी बाईं मोड़ें। अब कमर से बगल की तरफ झुकें लेकिन हाथों को सीधा रखें। शरीर को इतना झुकाएं जब तक आपके हाथ आपके पैर को न छू लें। 30 सेकंड बाद प्रारंभिक स्थिति में लौटें और फिर दूसरी तरह यही प्रक्रिया दोहराएं।

धनुरासन (Bow pose):

यह सबसे मुश्किल आसन है जिसे सबसे आखिर में किया जाना चाहिए। इस आसन को करने के लिए पेट के बल लेट जाएं और घुटनों को मोड़ लें। अब अपने हाथों से अपनी एड़ियों को मजबूती से पकड़ें। अब एक गहरी सांस लें और अपनी छाती तथा जांघों को फर्श से ऊपर की तरफ उठाएं। इसी स्थिति में 15-20 सेकंड रहें। अब सांस को छोड़ें और प्रारंभिक स्थिति में आएं। इस आसन को 4 से 5 बार दोहराएं।

Prabhat Jain

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.