वैज्ञानिकों ने खोजा याददाश्त बढ़ाने का नया तरीका

0

इस भागदौड़ भरी ज़िंदगी में कई बार लोग भूलने की बीमारी से ग्रसित हो जाते हैं| कमजोर याददाश्त से छुटकारा दिलाने के लिए वैज्ञानिक पिछले कुछ वर्षों से लगातार शोध कर रहे हैं| इसी बीच वैज्ञानिकों को नई सफलता हासिल हुई है| शोधकर्ताओं ने एक तरीका खोज निकाला है, जिससे इंसान के दिमाग में रासायनिक बदलाव करके उसकी याददाश्त को तेज किया जा सकेगा|

अभी तक भूलने की बीमारी या पागलपन के मरीज को बिजली के झटके दिए जाते थे, लेकिन अब नए तरीके से दिमाग के केमिकल सिग्नल को बढ़ाया जा सकेगा| शोधकर्ताओं को इस प्रयोग के बाद काफी अच्छे नतीजे मिले हैं| ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी के मेडिकल शोधकर्ताओं ने यह शोध किया| उन्होंने पाया कि चुनौतीपूर्ण मानसिक कार्य करने के दौरान दिमाग में एक खास किस्म के रसायन का स्त्राव होता है|

इस केमिकल को वैज्ञानिकों ने ‘एसेटायल्कोलाइन’ नाम दिया है| यदि इसका स्त्राव कम हो जाता है तो चीजें याद रखना मुश्किल हो जाता है| ब्रिस्टल सेन्टर फॉर सिनेप्टिक प्लास्टिसिटी के शोधकर्ताओं ने इस रसायन पर कई तरह के प्रयोग करके बेहतर परिणाम हासिल किए हैं| इस नई तकनीक की मदद से ‘अलजाइमर्स’ और पागलपन जैसी गंभीर मानसिक समस्याओं से निजात मिल पाएगी|

Share.