website counter widget

बरसात में रखें सावधानी वरना हो सकता है अपेन्डिक्स का खतरा

0

बारिश का मौसम शुरू हो गया है। इस मौसम में बीमारियों का खतरा भी अधिक बढ़ जाता है। बारिश के मौसम में कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं जिससे लोगों को काफी समस्या का सामना करना पड़ता है। इसी वजह से बारिश के मौसम में सावधानी रखना बेहद ही जरूरी है। बारिश के मौसम में अपेन्डिक्स का दर्द भी काफी बढ़ जाता है। विशेषज्ञ बताते हैं कि बारिश के मौसम में अपेन्डिक्स को लेकर बेहद सावधानी रखनी चाहिए (Appendix Treatment)। मानव शरीर में अपेन्डिक्स तकरीबन चार-पांच इंच लंबी एक बंद और पतली नली होती है। यह नली छोटी आंत और बड़ी आंत के मिलने वाले स्थान पर स्थित होती है। मुख्यतः यह पेट के दाएं भाग में नीचे की तरफ स्थित होती है।

पेट के बल सोना हो सकता है बेहद ही खतरनाक

देखा जाए तो अपेन्डिक्स की वैसे तो हमारे लिए कोई उपयोगिता नहीं होती और न ही यह हमारे लिए जरूरी होती है। लेकिन इसका संक्रमण बेहद ही घातक हो सकता है। इसी वजह से इसे सर्जरी कर निकाल दिया जाता है। जब अपेन्डिक्स का संक्रमण होता है तो इसे अपेन्डिसाइटिस कहा जाता है। विशेषज्ञ बताते हैं कि, अपेन्डिक्स का जब दूसरा किनारा अवरुद्ध हो जाता है तब अपेन्डिक्स का संक्रमण होता है। अपेन्डिक्स में म्युकस के जमाव की वजह से यह संक्रमण होता है। जब यह ब्लॉकेज होता है तब अपेन्डिक्स में होने वाले बैक्टीरिया अपेन्डिक्स की दीवार पर आक्रमण करते हैं इसी को संक्रमण कहा जाता है।

How To Control Diabetes : इन घरेलू उपायों से शुगर हमेशा रहेगी नियंत्रित

अपेन्डिसाइटिस का शिकार अक्सर 10 से 30 वर्ष की आयु वर्ग के बीच के लोग होते हैं। वहीं यह समस्या महिलाओं से ज्यादा पुरुषों में देखने को मिलती हैं। हालांकि यह चिंता का विषय नहीं होता। अपेन्डिसाइटिस का कारण मुख्यतः चोट लगना या फिर लिम्फोइड फॉलिकल का आकार बढ़ना होता है (Appendix Treatment)।

पेट में हल्की मरोड़ के साथ होने वाला दर्द इसका प्रथम लक्षण होता है। बेहद ही कम मामले में ऐसा देखने को मिलता है कि इसका लक्षण दिखने के 24 घंटे के अंदर ही अपेन्डिक्स फट जाए। वहीं इसके लक्षण 48 घंटे तक दिखाई देते हैं। अगर अपेन्डिक्स फट जाए तो यह बेहद ही घातक साबित हो सकती है। इसका एक मात्र इलाज सर्जरी ही होता है। जानते हैं इसके लक्षणों के बारे में।

होममेकर मॉम ऐसे करें वजन कम

लक्षण

पेट के निचले भाग में दर्द

भूख न लगना

जी मिचलाना

उल्टी होना

डायरिया की शिकायत

कब्ज रहना

हल्का बुखार रहना।

ज्यादातार बारिश के मौसम में इसका खतरा बढ़ जाता है और इसी मौसम में ज्यादातर मामले देखने को मिलते हैं। क्योंकि बारिश के मौसम में ही बैक्टीरिया और वायरस का संक्रमण काफी बढ़ता है इसलिए अपेन्डिसाइटिस का खतरा भी इस मौसम में बढ़ जाता है। इससे बचने के लिए हमेशा ताजा खाना खाएं तथा साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें।

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.