website counter widget

image1

image2

image3

image4

image5

image6

image7

image8

image9

image10

image11

image12

image13

image14

image15

image16

image17

image18

जन्म से जुड़ी स्वास्थ्य की जानकारी जरूर पढ़ें

0

क्या आप जानते हैं की जन्म का महीना आपके स्वास्थ्य पर असर डाल सकता है? हालांकि यह बात तो सभी लोग कई बार सुन ही चुके होंगे लेकिन इस बात पर कोई यक़ीन नहीं करता। कई बार लोग यह सोचते हैं कि भला ग्रहों का हमारे स्वास्थ्य से कैसा नाता? लेकिन कई तरह के शोध में यह बात सामने निकल कर आई है कि, हमारा जन्म का माह और हमारे स्वास्थ्य के बीच एक बेहद ही गहरा नाता है। हमारे जन्म माह के हिसाब से हमारे शारीरिक विकास का पता लगाया जा सकता है। जिस माह या मौसम में हमने जन्म लिया है उसका प्रभाव बहुत हद तक हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है।

Image result for health

गौरतलब है कि आयुर्वेद का पुरातन विज्ञान भी किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य का आकलन करने के लिए उसके जन्म के वक़्त की ग्रह स्थिति का अध्ययन करता है। ग्रहों की स्थिति के हिसाब से ही उसके स्वास्थ्य के बारे में पता लगाया जाता है। हालांकि इससे स्वास्थ्य के बारे निश्चित रूप से तो पता नहीं लगाया जा सकता लेकिन यह किस तरह से शारीरिक और मानसिक रूप से हमे प्रभावित कर सकता है इसका पता जरूर लगाया जा सकता है।

जनवरी से मार्च

Image result for heart problems

साल के शुरूआती तीन माह में जन्म लेने वाले बच्चों में विटामिन D की अधिकता होती है, क्योंकि इनका जन्म गर्मी के मौसम में होता है। अध्ययन में यह भी सामने आया है कि इन तीन माह में जन्म लेने वाले लोगों को दिल की बीमारियों का अधिक खतरा होता है। इन तीन माह में जन्म लेने वाले लोगों को कंजेस्टिव हार्ट फेलियर और माइट्रल वाल्व डिसऑर्डर जैसी बीमारी भी हो सकती है।

अप्रैल से जून

Related image

गर्मी के मौसम में जन्मे बच्चों में भविष्य में आंखों की समस्या हो सकती है। क्योंकि गर्मियों के मौसम में गर्भ से बाहर आते ही शिशु के तेज़ रौशनी का सामना करना पड़ता है। इन तीन माह के दौरान जन्म लेने वाले बच्चों के मूड का कोई भरोसा नहीं रहता। मतलब कि उनका खुशनुमा मूड अगले ही क्षण उदासी में या फिर गुस्से में परिवर्तित हो सकता है। अधिक तापमान में जन्म लेने के कारण ऐसे लोगों के मानसिक स्वास्थ्य को नियंत्रित करने वाला हार्मोन प्रभावित हो जाता है।

जुलाई से सितंबर

Image result for elargy

इस माह के दौरान एलर्जी फैलाने वाली धूल की अधिकता होती है। इस मौसम में जन्मे बच्चों को भविष्य में स्वांस संबंधी बीमारी जैसे अस्थमा की शिकायत हो सकती है। इसके अलावा इन लोगों को एलर्जी की समस्या भी काफी अधिक होती है।

अक्टूबर से दिसंबर

Related image

इन तीन माह के दौरान ठंड का मौसम होता है। और ठंड के मौसम में जन्म लेने वाले बच्चों को न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का ज्यादा खतरा बना रहता है। इन तीन माह के दौरान जन्मे बच्चों को स्वांस की और प्रजनन संबंधी समस्या की सम्भावना अधिक होती है। वहीं शोधों से इस बात का भी पता चला है कि इन तीन माह के दौरान जन्म लेने वाले लोगों का जीवनकाल भी लंबा होता है। इसके अलावा इन मौसंम में जन्म लेने वाले लोगों को दिल की बीमारी से बेहद ही कम जूझना पड़ता है।

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
Loading...
Share.