गलत तरीके से बैठना सिर्फ शारीरिक दर्द नहीं देता, अपाहिज कर सकता है

1

घंटों एक ही जगह पर बिना ब्रेक के बैठकर काम करना युवाओं की दिनचर्या बन गया है। ऐसी दिनचर्या सिर्फ मेट्रो सिटी में नहीं बल्कि छोटे शहरों में भी हो गई है। यदि आप भी लगातार बैठे रहते हैं तो सतर्क हो जाइये। बैठने की गलत मुद्रा आप को कमर दर्द दे सकती है। इतना ही नहीं यह कमर दर्द आगे चलकर आप को गंभीर बीमारी भी दे सकता है। ऑफिस में कामकाज के दौरान गलत मुद्रा में लगातार चार-पांच घंटे तक बैठे रहने से कमर दर्द हो सकता है।  डेस्क जॉब के कारण लोग एक ही जगह बिना ब्रेक लिए बैठे रहते हैं और इसका परिणाम कमरदर्द होता है। कमरदर्द के साथ-साथ अन्य खतरनाक स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं।

हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. केके अग्रवाल का मानना है कि आज लगभग 20 प्रतिशत युवाओं को 16 से 34 साल आयु वर्ग में ही पीठ और रीढ़ की हड्डी की समस्याएं हो रही हैं। एक ही स्थिति में लंबे समय तक बैठने से पीठ की मांसपेशियों और रीढ़ की हड्डी पर भारी दबाव पड़ सकता है।”

इन समस्याओं से बचने के लिए बहुत ज़रूरी है कि आप सही मुद्रा में बैठे। सही तरीके से बैठकर यानी पॉश्चर को सुधारकर इस समस्या से बचा जा सकता है।  ग़लत मुद्रा जैसे टेढ़े होकर बैठने से रीढ़ की हड्डी के जोड़ खराब हो सकते हैं और रीढ़ की हड्डी की डिस्क पीठ और गर्दन में दर्द का कारण बन सकती है। जब भी आप ऑफिस या घर में बैठें तो अपनी कमर को पूरा सपोर्ट देकर और सीधा होकर बैठें। सीधा बैठने से मासपेशियां मुड़ी हुई नहीं होती,जिससे शरीर पर दबाव थोड़ा कम हो जाता है और दर्द की समस्या नहीं होती। साथ ही इस बात का भी ध्यान रहे कि आप जहां बैठ रहे हैं वह कुर्सी ज़्यादा लचीली न हो। लगातार एक जैसे बैठे भी न रहें। थोड़ी देर पर टहलना बहुत ज़रूरी है, 40 मिनट बाद 5 मिनट का ब्रेक लीजिए।

यदि आप को कमरदर्द की समस्या है तो योग से आप फायदा पा सकते हैं। योग पुराने पीठ दर्द के लिए एक सुरक्षित और प्रभावी उपाय है क्योंकि यह कार्यात्मक विकलांगता को कम करता है।

Share.