क्यों होता है फेफड़ों का कैंसर? जाने वजह

0

कैंसर एक बेहद ही घातक बीमारी है। कैंसर कई प्रकार के होते हैं। इन्ही में से एक प्रकार है फेफड़ों का कैंसर। वैज्ञानिकों का कहना है कि इसे भी दो भागों में बांटा जा सकता है। मतलब फेफड़ों का कैंसर दो प्रकार का होता है पहला एन.एस.सी.एल.सी. (NSCLC) और दूसरा एस.सी.एल.सी (SCLC)। इसमें से एन.एस.सी.एल.सी. कैंसर अधिक पाया जाता है। इस बारे में विशेषज्ञों का कहना है कि फेफड़ों का कैंसर तब होता है जब फेफड़ों की कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से ऊपर-नीचे होने लगती हैं। इसका सबसे प्रमुख कारण है धूम्रपान करना। फेफड़ों के सभी प्रकार के कैंसर एन.एस.सी.एल.सी. कैंसर में ही आते हैं।

Chia Seeds Benefits : चिया बीज से पाएं भरपूर सेहत

विशेषज्ञ बताते हैं कि फेफड़ों का कैंसर शरीर के अन्य भागों में भी बेहद आसानी से फ़ैल सकता है। इस कैंसर के उपचार के लिए सर्जरी, कीमोथेरेपी, विकिरण चिकित्सा या लक्षित चिकित्सा का प्रयोग किया जाता है। डॉक्टरों का कहना है कि फेफड़ों का कैंसर होने पर भी जब कोई व्यक्ति अत्यधिक मात्रा में धूम्रपान करता है तब यह कैंसर शरीर के अन्य भागों में फैलने लगता है। रोजाना अधिक मात्रा में सिगरेट पीने वालों में इस प्रकार के कैंसर का खतरा कई गुना तक बढ़ जाता है। सिगरेट पीना इसका प्रमुख कारण है लेकिन इस कैंसर के होने के और भी कई कारण हैं। जैसे पीने के पानी में मौजूद आर्सेनिक भी इसका कारण हो सकता है।

रात में लाइट जलाकर सोने वाले पढ़ें यह ख़बर

डॉक्टरों का मानना है कि जो व्यक्ति खाद्यानों से संबंधित कार्य करते हैं वे अधिकतर एसबेस्टस के संपर्क में आते ही हैं। ऐसे में उन व्यक्तिओं को एसबेस्टस कैंसर हो सकता है। वहीं फेफड़ों में कैंसर होने के पीछे पारिवारिक कारण भी हो सकता है। मतलब यह कैंसर अनुवांशिक गुण से भी प्रेरित होता है। क्योंकि इसका संबंध व्यक्ति के जीन से होता है। मतलब अगर घर के किसी सदस्य को कैंसर हुआ है तो यह बाकि सदस्य को भी हो सकता है। यह व्यक्ति के जीन से जुड़ा हुआ होता है।

जानिए दवा की पर्ची पर लिखे Rx का मतलब

Share.