website counter widget

Kidney Infection : छोटे बच्चों को है किडनी इंफेक्शन का खतरा

0

किडनी के इंफेक्शन का खतरा छोटे बच्चों में यूटीआई यानी मूत्राशय का इंफेक्शन होने से हो सकता है | मूत्राशय का सीधा संबंध किडनी से होता है, इसलिए इसके संक्रमित होने पर बैक्टीरिया किडनी को नुकसान करते है | छोटे बच्चों की किडनियां पूर्ण विकसित नहीं होती हैं, इसलिए ये इंफेक्शन उनकी किडनियों को अधिक नुकसान पहुंचा सकता है| बच्चों में किडनी इंफेक्शन (Kidney Infection In Children) के कारण, उनसे बचाव और उपचार के लिए पढ़े पूरी ख़बर |

कई मुसीबतों की जनक है सुनने में परेशानी

Kidney Infection In Children :

-बच्‍चों में किडनी के संक्रमण का एक मुख्य कारण टॉयलेट (शौचालय) में साफ-सफाई की कमी है|
-टॉयलेट सीट पल रहे बैक्टीरिया गुदा मार्ग से शिशु के शरीर में प्रवेश कर सकते है | यह किडनी के संक्रमित किये जाने का सबसे बड़ा जरिया है |
-बच्चों को हर तरह के इंफेक्शन से बचाने के लिए टॉयलेट को साफ-सुथरा रखे | टॉयलेट को अच्छी तरह जर्म किलर लिक्विड से क्लीन करे |
-कई मामलों में बच्‍चे मां के गर्भ से ही कि़डनी के संक्रमण से ग्रसित होते हैं| गर्भावस्‍था के दौरान जिन महिलाओं को डायबिटीज होता है, उनके बच्चो को इसका खरता और अधिक होता है |

खुशखबरी : कैंसर का मिला इलाज

Image result for किडनी इंफेक्शन छोटे बच्चों
-बचाव के लिए जरूरी है कि महिला प्रेग्नेंसी के 16वें सप्ताह में डायबिटीज की जांच करवाएं|
-छोटे बच्चों के पेट में ई. कोलाई जो की एक तरह का जीवाणु है पाया जाता है | यह बच्चों की आंतों में बढ़ जाते हैं और संक्रमण का कारण बनते हैं|
-यह जीवाणु कई बार किडनियों के संक्रमण का भी कारण बनते हैं| इस जीवाणु के कारण छोटे बच्चों को यूटीआई भी हो जाता है|
-यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन या यूटीआई मूत्रमार्ग का संक्रमण है और किडनी रोग का मुख्य कारण है | संक्रमित होने पर बैक्टीरिया जल्द ही किडनी को डैमेज करने लगते है |
-छोटे बच्चों की किडनियां पूरी तरह विकसित नहीं होती| उनके लिए यह काफी नुकसान दायक है |

Causes Cancer : फ़ैशनेबल कपड़ों से हो सकता है कैंसर !

किडनी इंफेक्शन से बचाव के उपाय –
1.छोटे शिशु के पॉटी या पेशाब करने पर नैपी बदलने का पूर्ण ध्यान रखे |
2.बैक्टीरियल इंफेक्शन से बचाव के लिए शिशु की गर्म पानी और एंटीबैक्टीरियल लिक्विड से साफ करे |

Image result for किडनी इंफेक्शन छोटे बच्चों
3.टॉयलेट को हमेशा साफ और स्वच्छ रखें|
4.बच्चों को पेशाब के दौरान जलन, पेशाब के साथ खून निकलने या पेट दर्द होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाए |

अभिषेक

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.