घातक बीमारी का संकेत हो सकता है गंजापन

0

गंजेपन का शिकार कोई भी व्यक्ति हो सकता है। गंजापन उम्र का मोहताज़ नहीं होता। कई बार देखने में आता है कि बुजुर्ग व्यक्ति के बाल एक दम सही सलामत होते हैं जबकि 40 साल के व्यक्ति के सिर पर गंजापन साफ़ नज़र आता है। इससे यह बात तो सिद्ध होती है कि गंजे होने की कोई उम्र नहीं होती। गंजेपन का शिकार कोई भी व्यक्ति हो सकता है। हाल ही में गंजेपन को लेकर बोन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने एक शोध किया है। इस शोध में इस बात का खुलासा हुआ कि जिन व्यक्तियों की हाइट कम होती है और उनका स्किन कलर फेयर होता है उनके बाल तेजी से झड़ते हैं।

नजर अंदाज न करें Cervical Cancer

दरअसल बोन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने अपने शोध में 20 हजार पुरषों को शामिल किया था। इस शोध में यह सामने आया कि हाइट में छोटे और लाइट स्किन वाले व्यक्तियों के बाल पहले झड़ना शुरू हुए। इस बारे में एक्सपर्ट का कहना है कि स्कैल्प के इम्यून और फैट सेल्स बाल झड़ने से संबंधित होते हैं। शोधकर्ताओं की माने तो उन्हें 63 अल्ट्रेशन ह्यूमन जीनोम की पहचान करने में सफलता प्राप्त हुई है। यही जीनोम गंजेपन का प्रमुख और पहला कारण होते हैं। इसके अलावा शोधकर्ताओं का कहना है कि समय से पहले ही गंजा होना कैंसर का लक्षण भी हो सकता है।

World No Tobacco Day 2019 : Cigarette के बारे में यह नहीं जानते होंगे आप !

लेकिन इस शोध के अनुसार वे लोग गंजेपन का शिकार हुए जिन्हे दिल से संबंधित बीमारी और प्रोस्टेट कैंसर जैसी बीमारी थी। इस शोध में यह भी खुलासा हुआ कि किसी भी इंसान में 2 तरह के जीनोम पाए जाते हैं। इनमे पहला जीनोम वह होता है जिसकी वजह से बाल झड़ते हैं। जबकि दूसरा जीनोम इसके ठीक विपरीत अपना कार्य करता है।

Cranberry का गुणकारी ज्यूस

Share.