पांच आसन, जो आपको देंगे निरोगी काया

0

आज दुनियाभर में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है| स्वस्थ जीवनशैली के लिए स्वस्थ मन और शरीर जरूरी होता है| कहते हैं स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का वास होता है इसलिए योग को अपनी जीवनशैली में शामिल करना चाहिए| आज हम आपको ऐसे पांच आसनों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनसे निरोगी काया पाई जा सकती है|

धनुरासन

इस आसन को पेट के बल लेटकर किया जाता है| इससे आप दिनभर तरोताज़ा महसूस करेंगे और मन भी स्वस्थ रहेगा| इस आसन को अपनी दिनचर्या में शामिल करने के बाद पाचन की समस्या से भी निजात पाया जा सकता है|

चक्रासन

चक्रासन को ‘व्हील पोज़’ भी कहा जाता है| इसे करते समय बॉडी आधा सर्कल का रूप लेती है| चक्रासन करने से शरीर लचीला और मजबूत बनता है| यह कमर, जांघ और रीढ़ की हड्डी से संबंधित कई बीमारियों को दूर करता है| इसे करते समय सावधानी रखने की आवश्यकता है, नहीं तो रीढ़ की हड्डी में परेशानी आ सकती है|

गोमुखासन

गोमुखासन में पांव की स्थिति गौ यानी गाय के मुख जैसी रखी जाती है, इससे पैर, रीढ़ की हड्डी और जांघों पर ध्यान दिया जाता है| इस आसन को करने से अवसाद, उच्च रक्तचाप और सांस संबंधित समस्या दूर हो जाती है तथा शरीर में रक्त का संचरण बेहतर होता है|

भुजंगासन

इस आसन को कोबरा पोज़ भी कहा जाता है| इसे करते समय शरीर का अगला हिस्सा कोबरा के फन की तरह ऊपर की ओर उठाया जाता है| इस आसन के कई फायदे हैं| जिन्हें गर्दन संबंधित समस्या होती हैं, उनको यह जरूर करना चाहिए| इसे करने से तनाव, स्लिप डिस्क जैसी परेशानियां दूर होती हैं|

वृक्षासन

वृक्षासन को ट्री पोज़ भी कहा जाता है| इस आसन को करते समय पेड़ के जैसी स्थिति बनती है| इसे करने के कई फायदे हैं| यह टांगों और जांघों को मजबूत बनाने के साथ ही लंबाई बढ़ाने में भी मदद करता है|

Share.